बांका। बांका नगर परिषद के पहले चुनाव के बाद 26 वार्ड पार्षद चुनाव जीत कर आ गए हैं। चुनाव परिणाम के दिन ही नगर परिषद के पहले मुख्य पार्षद और उप मुख्य पार्षद बनने की रस्साकसी तेज हो गई थी। मौजूदा उप मुख्य पार्षद अनिल ¨सह और पार्षद संतोष ¨सह अखाड़े में आमने सामने की घोषणा कर चुके थे। लेकिन, दो दिनों की सक्रियता के बाद ही दोनों धड़े का तेवर सुस्त पड़ा दिखा रहा है। बताया जा रहा है कि सियासी घमासान को देख कर कुछ पुराने वार्ड पार्षद और शहरी सियासत के कई दिग्गज सक्रिय हो गए हैं। चुनाव के दौरान शहरी सियासत में बने जख्म पर मरहम पट्टी लगाने का प्रयास तेज हो गया है। वे दोनों गुटों में एका के अभियान में जुटे हैं। ताकि मुख्य पार्षद चुनाव के बाद दो धड़ों की तानातनी में शहर का विकास बाधित नहीं हो जाए। बीच की कड़ी दोनों पक्षों से बात भी कर चुकी है। सूत्रों की जानकारी के अनुसार इसको लेकर रविवार को शहर में महत्वपूर्ण बैठक हो रही है। जिसमें दोनों धड़े को एक साथ लाने की कवायद होगी। अगर इसमें रणनीति के तहत सब कुछ ठीक ठाक रहा तो एक अध्यक्ष और दूसरे उपाध्यक्ष बनने को तैयार हो जाएंगे। इसके बाद नौ जून को पार्षदों का शपथ ग्रहण और फिर चुनाव महज औपचारिकता साबित होगी। वैसे बैठक और सहमति के पहले दोनों धड़ा इस संबंध में अभी कुछ बोलने को तैयार नहीं है। लेकिन, जानकार पीछे की पूरी पटकथा लिख लिए जाने का दावा कर रहे हैं।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस