बांका। बुधवार देर शाम शहर के कटोरिया रोड स्थित इरविन मेडिकल हॉल में गलत सुई देने से विजयनगर निवासी नवीन दास की पांच वर्षीय बेटी आरुचि की मौत हुई थी। इस मामले में मेडिकल हॉल संचालक अभय कुमार सिंह व कंपाउंडर गौतम कुमार के खिलाफ मामला दर्ज होने के बाद भी दोनों की गिरफ्तारी नहीं हो सकी है।

इधर, घटना के तीसरे दिन भी शुक्रवार को उक्त मेडिकल की दुकान बंद रही। इस संदर्भ में आरुचि की दादी मुन्नी देवी ने दोनों को आरोपित किया है। बच्ची के शव का पोस्टमार्टम रिपोर्ट शनिवार को आने की उम्मीद है। बच्ची को हल्का बुखार आने पर उसे लेकर इरविन मेडिकल हॉल गई थीं। जहां डॉ. आरके सिंह नहीं थे। मेडिकल संचालक अभय कुमार सिंह ने आरुचि का नब्ज देख तेज बुखार होने की बात कहर कंपाउंडर गौतम को सुडेमा की सुई देने के लिए कहा। गौतम ने जैसे ही सुई लगाई उसकी हालत बिगड़ गई और बच्ची की मौत हो गई।

------------

स्वास्थ्य विभाग को कोई मतलब नहीं :

घटना के बाद स्वास्थ्य विभाग की टीम एक बार भी देखने तक नहीं आई। इससे स्थानीय लोगों में रोष है। कोर्ट के आदेश पर सीएस ने कई नर्सिग होम व क्लिनिक को सील किया था, लेकिन चर्चा है कि कागज पर ही यह कार्य हुआ है। स्थानीय लोगों ने इसके लिए सीएस को जिम्मेदार ठहराया है। इधर, सीएस डॉ. सुधीर कुमार महतो ने बताया कि चिकित्सकों की टीम ने आरुचि के शव का पोस्टमार्टम किया। रिपोर्ट आने के बाद ही कुछ कहा जा सकता है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप