बांका। रेफरल अस्पताल के प्रसव कक्ष जाने के मुख्य द्वार का छज्जा का प्लास्टर रविवार को गिर गया। इससे अस्पताल परिसर में अफरा-तफरी का माहौल रहा। इस घटना में किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है।

ज्ञात हो कि प्रसव कक्ष के मुख्य गेट पर अक्सर भीड़ लगी रहती है। संयोग था कि मुख्य गेट पर कोई नहीं था। जिससे जानमाल का नुकसान नहीं हुआ है। छज्जा का मलबा गिरने की सूचना पर रेफरल प्रभारी डॉ. अभय प्रकाश चौधरी एवं अस्पताल प्रबंधक सुनील कुमार चौधरी ने मौके पर पहुंचकर मलबा हटवा दिया। इस घटना से अस्पताल में भर्ती मरी•ा एवं उनके परिजन में दहशत है।

-----------

जर्जर हो चुका है रेफरल अस्पताल का भवन :

रेफरल अस्पताल भवन का बड़ा हिस्सा काफी जर्जर हो चुका है। आए दिन प्लास्टर गिरता रहता है। पिछले कुछ दिनों से अस्पताल प्रबंधन द्वारा भवन की मरम्मत करा रहा है। लेकिन राशि कम होने का हवाला देकर सिर्फ अस्पताल के अगले हिस्से की मरम्मत ही हो रही है। अस्पताल के एक कर्मचारी ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि अस्पताल भवन मरम्मत के नाम पर प्रतिवर्ष लाखों खर्च किए जाते हैं। पांच-छह माह पूर्व भी अस्पताल के पोर्टिको के छत का बड़ा मलबा गिरा था। जिसमें मरीज बाल-बाल बचे थे। अस्पताल प्रबंधन की मानें तो भवन की जर्जरता को देखते हुए कई बार विभागीय पदाधिकारी को लिखा गया है। लेकिन अभी तक मरम्मत का कार्य करने की दिशा में पहल नहीं किया गया है।

----------------------

कोट

प्रसव कक्ष के मुख्य गेट का छज्जा जर्जर होने के कारण गिर गया। इसमें किसी को नुकसान नहीं हुआ है। भवन काफी जर्जर है। इस घटना की जानकारी सिविल सर्जन सहित अन्य पदाधिकारी को दे दी गई है।

सुनील कुमार चौधरी, अस्पताल प्रबंधक

Posted By: Jagran