बांका। पिछले एक दशक से क्षेत्र की नदियों से हो रहे बालू के खनन से नदियों की सतह काफी नीचे चली गई है। जिससे जिले का भू-जल स्तर 25 से 40 फीट तक नीचे चले जाने से यहां के कई इलाकों में पेज जल संकट गहरा गई है। इसको देखते हुए जागरण ने अभियान चलाकर शहर सहित ग्रामीण इलाकों पड़ताल करते हुए यहां की जल संकट की समस्या को उजागर किया। जिसके बाद कई सरकारी विभाग जिले को जल संकट से निजात दिलाने के लिए अपने हाथ बढ़ाए हैं।

-----------

955 वार्ड में स्थापित किए जा रहे फ्लोराइड ट्रिटमेंट प्लांट :

जिले की बड़ी आबादी फ्लोराईड प्रभावित है। जिसके दायरे में 122 पंचायतों के 955 वार्ड हैं। जहां के लोग फ्लोराइड युक्त पानी पीने को विवश हैं। जिससे यहां के लोग न सिर्फ बीमार हो रहे हैं, बल्कि यहां की पीढ़ी स्केल्टन एवं डेंटल फ्लोरोसिस बीमारी के शिकार हो रहे हैं। लेकिन अब पीएचईडी ने अपनी कमर कस ली है। उनका दावा है कि जल्द ही यहां के लोगों को फ्लोराइड मुक्त पानी मुहैया कराई जाएगी। इसके लिए वहां फ्लोराइड ट्रीटमेंट प्लांट स्थापित किए जा रहे हैं।

-------------

एक लाख लोगों को मिला फ्लोराइड मुक्त पानी :

पीएचइडी की पहल पर अब तक जिले के फ्लोराईड प्रभावित इलाकों के करीब एक लाख लोगों को फ्लोराइड मुक्त पानी मिलने लगा है। अब तक पीएचइडी विभाग ने फ्लोराइड प्रभावित 317 वार्डों में फ्लोराइड मुक्त पानी की सप्लाई शुरू कर दी है। इसके अलावा इसी महीने फ्लोराइड प्रभावित इलाकों के 2761 घरों में भी फ्लोराइड मुक्त पानी पहुंचा दी गई है।

-----------

जल स्तर बढ़ाने में भूमि संरक्षण भी करेगा सहयोग :

जिले में लगातार भू जल स्तर में हो रही गिरावट को रोकने के लिए भूमि संरक्षण विभाग ने भी अपने अभियान शुरु कर दिया है। इसके तहत विभाग की ओर से पहाड़ी इलाकों में तालाब व चैक डैम का निर्माण कर भू जल स्तर को बनाए रखने का प्रयास शुरू कर दिया गया है।

---------------

कोट

जिले के फ्लोराइड प्रभावित इलाकों में ट्रीटमेंट प्लांट लगाकर लोगों को फ्लोराइड मुक्त पानी मुहैया कराए जाएंगे। अब तक क्षेत्र के करीब एक लाख लोगों को फ्लोराइड मुक्त पानी की सप्लाई की जा रही है। जल्द ही अन्य प्रभावित इलाकों में भी यह व्यवस्था लागू होगी। इसके अलावा शहर सहित ग्रामीण इलाकों में पेय जल संकट को दूर करने के लिए यूनिट स्थापित किए जा रहे हैं।

डेविड कुमार चतुर्वेदी, कार्यपालक अभियंता, पीएचईडी

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप