बांका। महौता गांव के मुर्गी फार्म में अज्ञात बीमारी से पिछले तीन दिनों में लगभग 600 मुर्गी के मौत से वर्ड फ्लू की आशंका से ग्रामीण दहशत में है। ग्रामीणों की सूचना पर मौके पर बीडीओ सरस्वती कुमारी महौता गांव स्थित घनश्याम चौधरी के मुर्गी फार्म पर पहुंचकर वस्तुस्थिति की जानकारी ली तथा मौके से पशु चिकित्सक डॉ. केके ¨सह से बात कर अचानक मुर्गी की हो रही मौत की जांच कर रिपोर्ट देने को कहा है। उन्होंने बर्ड फ्लू से आशंका से दहशतजदा ग्रामीणों को शीघ्र ही जांच करने का आश्वासन दिया। वहीं, बीडीओ ने मुर्गा फार्म के प्रोपराइटर घनश्याम चौधरी से पिछले तीन दिनों में हुए मुर्गी के मौत की विस्तृत जानकारी लिया है। जिसपर मुर्गी फार्म के प्रोपराइटर ने बताया कि तीन दिनों में 570 मुर्गी की मौत हो चुकी है। उन्होंने बताया कि वह छत्तीसगढ के राजनांदगांव के कंपनी आईबी स्टैंड फार इंडियन बॉइलर के लिए कार्य करता है। जिसमें कंपनी द्वारा ही चूचा, दाना, दवाई आदि देता है और कंपनी ही मुर्गा बड़ा होने पर ले लेता है।

--------------------

ठंड से मर रही मुर्गी : टीम

आईबी स्टैंड फार इंडियन बॉईलर के प्रतिनिधि राम प्रसाद ने बताया कि कंपनी के चिकित्सक की टीम ने महौता गांव जाकर मुर्गी के मौत के कारण की जांच की है। जिसमें मुर्गी की ठंड के कारण मौत होने बताया गया है। इसके लिए केयरटेकर को आवश्यक दवा भी उपलब्ध करा दिया गया है।

-------------------

कोट

ठंड के मौसम में मुर्गी की मौत कोई नई बात नहीं है। मुर्गी के मौत का मुख्य कारण है कि फार्म को चारों तरफ से घेर कर रखने से आक्सीजन की कमी हो जाती है और मुर्गी के पेट में पानी भरने वाली एसाईटी नामक बीमारी का शिकार हो जाती है। उन्होंने बताया कि मरे हुए मुर्गी के नमूने की जांच की जाएगी । तब ही स्पष्ट हो पाएगा।

डॉ. केके ¨सह, पशु चिकित्सक

Posted By: Jagran