औरंगाबाद। जिला शिक्षा पदाधिकारी के कार्यालय के समक्ष आमरण अनशन पर बैठे शिक्षकों को शनिवार को सम्मानित किया गया। सात शिक्षकों को सम्मानित किया गया। कहा गया कि 2007 में अनशनकारी शिक्षकों ने अन्न जल का त्याग कर अपनी सभी मांगों को पूरा करवाया था। 2017 में अनशन के बल पर ही शिक्षकों के अनेक मांगों को पूरा कराया और इस बार शिक्षकों की लंबित सभी मांगों को डीईओ ने मनवाने का कार्य किया। 2007 में अनशन करने वाले शिक्षक नवल किशोर एवं गोपाल प्रसाद गुप्ता थे, वहीं 2018 में अनशन पर बैठने वाले शिक्षक रविद्र किशोर एवं अनिल कुमार थे। वहीं इस बार प्रदीप कुमार (मध्य विद्यालय तरार), लालदेव राम (मध्य विद्यालय बेलाढी) एवं प्रतिभा कुमारी (मध्य विद्यालय संख्या एक) दाउदनगर रहे। इस बार संगठन के लिए एक अलग उपलब्धि यह रही कि एक महिला शिक्षक प्रतिभा कुमारी भी अनशनकारी साथियों के साथ अनशन में शामिल रहीं। बिहार राज्य प्राथमिक शिक्षक संघ गोप गुट के जिला प्रवक्ता गोपेंद्र कुमार सिन्हा गौतम जिले के तमाम शिक्षकों से संगठन के साथ जुड़ने की अपील की है। गोपगुट के महासचिव नागेंद्र सिंह, जिलाध्यक्ष डा. मधेश्वर सिंह, जिला कोषाध्यक्ष मनोज कुमार, गोप गुट जिला प्रवक्ता गोपेंद्र कुमार सिन्हा गौतम ने सम्मानित किया। समीक्षा बैठक में महासचिव नागेंद्र सिंह, जिलाध्यक्ष डा. मधेश्वर सिंह, उपाध्यक्ष बुधन सिंह, महेंद्र सिंह, रविनंदन सिंह, धर्मेंद्र कुमार, अरविद कुमार, मनोज कुमार उपस्थित रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस