कोरोना वायरस ने पूरे विश्व में तबाही मचाए हुए है। कोरोना से निपटने के लिए सरकार से लेकर अधिकारी तक परेशानी है। सभी निजी व सरकारी विद्यालय, महाविद्यालय, विश्वविद्यालय, कोचिग संस्थान, मॉल, पार्क समेत कई सार्वजनिक जगहों को बंद कर दिया है। सरकारी कार्यालयों में कार्य करने के लिए वैकल्पिक तरीके से कर्मचारियों को लगाया गया है। गुरुवार को देव सूर्य मंदिर न्यास समिति के अध्यक्ष सह एसडीएम डा. प्रदीप कुमार ने पत्र जारी किया है। जारी पत्र में एसडीएम ने कहा कि है कि देव सूर्य मंदिर में दर्शन करने के लिए एक साथ 50 से अधिक श्रद्धालु जमा नहीं होंगे। कोरोना जैसी खतरनाक वायरस से बचने के लिए यह निर्णय लिया गया है। कहा कि मंदिर में प्रवेश करने के पूर्व वायरस से बचने के लिए हाथों को सेनेटाइजर से धुला होना आवश्यक है। एसडीएम ने श्रद्धालुओं से अपील किया है कि कोरोना वायरस से बचाव के लिए अपने आसपास के लोगों को को भी जागरूक करें। कहा कि किसी भी सार्वजनिक जगहों पर भी एक साथ 50 से अधिक व्यक्ति जमा नहीं होंगे। आदेश का अनुपालन सुनिश्चित करने को लेकर एसडीएम ने न्यास समिति के सचिव को निर्देशित किया है। चैती छठ मेला को लेकर एसडीएम ने श्रद्धालुओं से अपील किया है कि कोरोना वायरस से बचाव को लेकर मेला में कम से कम लोग पहुंचे। एसडीएम ने आदेश का प्रतिलिपि सीओ, बीडीओ, थानाध्यक्ष को निर्देशित किया है। देव सूर्य मंदिर के अलावा एसडीएम ने इस संबंध में कुटुंबा प्रखंड के मिर्जापुर गांव स्थित अष्टभुजी महारानी मंदिर में 50 से अधिक श्रद्धालुओं को एक साथ जाने पर रोक लगा दी है। एसडीएम ने कहा कि कम से कम श्रद्धालु मंदिर में जाकर दर्शन कर बाहर निकल जाएं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस