- टेक्निकल परेशानी के कारण समय से नहीं शुरू हो सकी जांच, दिल्ली से ट्रेनिग कर लौटे हैं दो लैब टेक्नीशियन

- प्रतिदिन एक हजार से अधिक लोगों की होगी जांच, जल्द रिपोर्ट भी मिलेगी, इससे कोरोना को हराने में होगी मदद औरंगाबाद। कोरोना के शोर के बीच राहत दिलाने वाली खबर हैं। कोरोना की रियल टाइम पेरीमिरेज चेन रिएक्शन (आरटी-पीसीआर) जांच जल्द ही अपने जिले में होने लगेगी। सदर अस्पताल के रेडक्रॉस भवन में लैब का सेटअप होगा। राज्य स्तर से जिले में लैब स्थापित करने को लेकर अनुमति प्रदान कर दी गई है। बीएमआइसीएल द्वारा लैब के आधारभूत संरचना का अंतिम रूप दिया जा रहा है।

इस बाबत जिला स्वास्थ्य समिति के डीपीएम डॉ. कुमार मनोज ने बताया कि पहले 20 अप्रैल से इस लैब में कोरोना की जांच शुरू करनी थी। तकनीकी परेशानियों के कारण अब 10 दिन बाद से जांच शुरू होगी। ठीकेदार द्वारा 10 दिन का समय लिया गया है। जिले में आरटी-पीसीआर लैब स्थापित होने से कोरोना जांच की गति में तेजी आएगी। गया नहीं भेजना पड़ेगा सैंपल

कोरोना से जंग जीतने के लिए सरकार द्वारा अब जिला स्तर पर ही कोरोना की अंतिम जांच की व्यवस्था की जा रही है। जिले में आरटी-पीसीआर जांच के लिए तीन मशीन उपलब्ध हो गया हैं। आरटी-पीसीआर मशीन लगने के बाद अब किसी भी प्रकार का सैंपल गया नहीं भेजा जाएगा। दो लैब टेक्नीशियन किए गए नियुक्त

आरटीपीसीआर के तरह कोरोना जांच के लिए दो लैब टेक्नीशियन को नियुक्त किया गया है। मो. यूसुफ जमील एवं आशुतोष रंजन दिल्ली से ट्रेनिग कर के लौटें हैं। डीपीएम ने बताया कि इस जांच में मिक्रोबियोलॉजिस्ट की आवश्यकता होती है जिसे संविदा पर बहाल किया जा रहा है।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021