औरंगाबाद । रेफरल अस्पताल कुटुंबा में जननी बाल सुरक्षा योजना के लाभुक को शत प्रतिशत खाता खोलने को निर्देश चिकित्सा पदाधिकारी डा. लालदेव ¨सह ने दिया है। कहा कि राशि का भुगतान खाता के माध्यम से होगा। स्वास्थ्य कर्मियों के साथ हुई बैठक में उन्होंने कहा कि बंध्याकरण करानेवाली महिला को दो हजार व पुरुष नसबंदी करानेवाले को तीन हजार रुपये भुगतान किया जाना है। इसके लिए लाभ प्राप्त करनेवाले का खाता बैंक में होना जरूरी है। लाभुक का खाता अगर नहीं खुला तो कर्मियों के वेतन पर रोक लगाई जाएगी। पीएनबी शाखा अंबा एवं रिसियप की कार्यशैली पर कर्मियों ने उंगली उठाई। कर्मियों ने कहा कि बैंक के कार्यशैली से हम सब परेशान हैं। स्वास्थ्य मैनेजर आयूषी वर्मा ने समस्या का निदान के लिए वरीय अधिकारियों से मिलने की बात कही। कहा कि डयूटी के दौरान ड्रेस में रहना अनिवार्य है। स्वच्छता के लिए ध्यान रखना होगा ब्लाक मानिटर विकास कुमार ने कहा कि मिशन इंद्रधनुष की सफलता के लिए बेहतर प्रयास करना होगा। केन्द्र सरकार द्वारा चयनित गांव पथरा, झरहा, भरथ, धनीवार, खेतपुरा, भलुआरीकला एवं महसू में 18 जून से 22 जून तक जीरो से डेढ़ वर्ष के बच्चों को इंद्रधनुष योजना के तहत टीकाकरण किया जाना है। डा. लालदेव ¨सह ने बताया कि वैकसीन से गलाघोंटू डिप्थेरिया, कुकुरखांसी, टेटनस जेई, हेपेटाइटिस, खसरा निमोनियां व पीसीवी रोग से बच्चे मुक्त हो सकेंगे। बैठक में अनु कुमारी ¨सह, निभा कुमारी, सरस्वती कुमारी, अनीता कुमारी, वृंदा कुमारी, रंजु कुमारी सहित उपस्थित थे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप