औरंगाबाद। लोकसभा चुनाव से पहले चूड़ा-दही की राजनीति शुरू हो गई है। चुनाव होने में तीन माह का समय है परंतु राजनीतिक सरगर्मी तेज हो गई है। मकर संक्रांति पर सोमवार को रफीगंज विधायक अशोक कुमार ¨सह ने अपने ससुराल कर्मा भगवान गांव में चूड़ा-दही का पार्टी दिया। चूड़ा-दही भोज में काफी संख्या में लोग जुटे। पूछने पर विधायक ने कहा कि यह कोई राजनीति नहीं है। जनता से मिलने की इच्छा थी इसलिए चूड़ा-दही पार्टी दी। इसे राजनीति से न जोड़ा जाए। मैं औरंगाबाद होने पर ससुराल में ही रहता हूं। मकर संक्रांति पर अपने लोगों के साथ मिलकर चूड़ा-दही का आनंद उठाया। युवा जदयू के जिलाध्यक्ष अनिल मेहता, अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष ज्याउल मुस्तफा खान, सुरजीत ¨सह, शशि ¨सह, सोनू ¨सह, राहुल कुमार, आशुतोष कुमार, किसान प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष अशोक ¨सह, मुखिया प्रतिनिधि लंबू यादव, शिवपूजन राम, राजू यादव, ¨पकू ¨सह उपस्थित रहे। 16 जनवरी को पूर्व मंत्री का चूड़ा-दही सहभोज

औरंगाबाद : भाजपा नेता पूर्व मंत्री रामाधार ¨सह ने 16 जनवरी को चूड़ा-दही सहभोज आयोजित किया है। औरंगाबाद लोकसभा क्षेत्र से जुड़े सभी छह विधानसभा क्षेत्र के नेताओं एवं कार्यकर्ताओं को आमंत्रित किया है। उन्होंने बताया कि औरंगाबाद की दशा एवं दिशा पर चर्चा होगी। पांच वर्षों में विकास कि कितने कार्य हुए इसपर चर्चा होगी। उत्तर कोयल नहर के हकीकत की जानकारी जनता को दी जाएगी। बताया कि इस परिचर्चा में गया के टेकारी, गुरुआ, इमामगंज, औरंगाबाद जिले के औरंगाबाद, रफीगंज एवं कुटुंबा विधानसभा क्षेत्र के समर्पित कार्यकर्ता भाग लेंगे।

Posted By: Jagran