औरंगाबाद। नक्सल इलाके के सड़कों की स्थिति जर्जर है। बारिश होने पर सड़कें झील बन जाती है। सड़क खराब होने का असर पुलिस गतिविधि पर पड़ रहा है। वर्ष 2005 से 2010 तक ग्रामीण सड़कों का निर्माण युद्धस्तर पर किया गया था। सड़कें गड्ढों में तब्दील हो गई। स्थिति यह है कि बारिश होने पर ग्रामीण सड़कों से आवागमन करना पसंद नहीं करते। कई सड़कों पर वाहनों का परिचालन बंद हो जाता है। औरंगाबाद विधानसभा क्षेत्र में 29 सड़कों की स्थिति जर्जर है। सिन्हा कालेज मोड़ से रफीगंज भाया रजोई पथ गड्ढों में तब्दील हो गया है। तीन वर्षो से बदतर है परंतु निर्माण नहीं कराया गया। देव से एनएच 2 भाया भवानीपुर-बेलसारा एवं क्लब रोड की स्थिति भी अत्यंत दयनीय है। 29 सड़कों के निर्माण को लेकर पूर्व मंत्री रामाधार ¨सह ने ग्रामीण कार्य विभाग एवं पथ निर्माण मंत्री को पत्र लिखा है। कहा है कि सड़कों की स्थिति जर्जर होने के कारण ग्रामीण इलाकों में नक्सली गतिविधि बढ़ी है। पुलिस प्रशासन के हित में सड़कों का निर्माण जरूरी है। सड़कों के निर्माण के लिए डीपीआर बनाने एवं तकनीकी स्वीकृति प्रदान करने एवं सड़कों का निर्माण प्रारंभ करने की मांग की है। बताया है कि एनडीए-1 के शासनकाल में शीर्ष मद 4515, नाबार्ड एवं मुख्यमंत्री संड़क योजना के तहत सड़कों का निर्माण कराया गया था।

जर्जर सड़कों की सूची -

* नौगढ़ मोड़ से बघोई हाल्ट स्टेशन

* बघोई हाल्ट से बेल-पौथू

* फेसर रोड से सहाय बिगहा-चतरा

* नौगढ़ मोड़ से देव

* तेंदुआ पोखर के हारिबारी भाया डबूरा इंगलिश

* बाकन पुल से दोसमा भाया मदरपुरा खैरा

* सहाय बिगहा से बेल भाया लपुरा

* नौगढ़ से खान कपसिया

* दोसमा रोड से करंजा भाया परसडीह

* रजोई पथ के पोखराहा मोड़ से एनएच-2

* उन्थू फाल से इब्राहिमपुर भाया परसी

* पहरमा से मखदुमपुर

* एनएच-2 भेड़िया से औरंगाबाद-रजोई पथ

* सोखया से रजोई भाया बिजोई

* इंदा बिगहा से सोखया

* एनएच-2 से कोसडिहरा भाया देवरीया

* रामपुर से सिमरिया

* मोर डिहरी से रढुआधाम भाया जम्होर

* बड़वा से देवरिया भाया झिकटिया

* फेसर से दरियापुर भाया आलमपुर

* एनएच 2 सिमरा पथ से धनाड़ी

* एनएच-139 से मिशन स्कूल मोड़ से पिपरा

* कंचनपुर से देव भाया अजब बिगहा

* डुमरी से देव भाया बिढ़नी

* विजयी से चैन बिगहा

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप