औरंगाबाद। नक्सली इलाके में शिक्षक नंदन ठाकुर शिक्षा का अलख जगा रहे हैं। जिस इलाके में बंदूकें गरजती है वहां कलम से क्रांति ला रहे हैं। वह बच्चों को निश्शुल्क शिक्षा दे रहे हैं। मध्य विद्यालय मंझौली के प्रधानाध्यापक नंदन 10 वर्षो से ग्रामीण छात्र-छात्राओं को निश्शुल्क शिक्षा दे रहे हैं। महत्वपूर्ण है कि वे देवभाषा संस्कृत एवं ¨हदी की शिक्षा देकर छात्रों को जागरूक कर रहे हैं। वैसे नंदन सभी भाषाओं के जानकार हैं। शिक्षा से लगाव के कारण इलाके में सुर्खियों में रहते हैं। दो दिन पहले नंदन को सम्मानित किया गया। इस समारोह में ढिबरा थानाध्यक्ष डीएन ¨सह पहुंचे थे। उन्होंने नंदन के जज्बे को सलाम किय। कहा कि मैं भी नंदन से प्रभावित होकर बच्चों को अंग्रेजी पढ़ाऊंगा। जो बच्चे अंग्रेजी पढ़ना चाहते हैं वे हमसे मिल सकते हैं। नंदन ने बताया कि अभी 180 बच्चे शिक्षा ले रहे हैं। वर्ग दस के छात्रों को विद्यार्थियों को विदाई दी गई। औरंगाबाद के को¨चग में निश्शुल्क इन विषयों की शिक्षा दान कर रहे हैं। समय के बारे में उन्होंने बताया कि रविवार को छोड़ सभी दिन शिक्षादान का कार्य करते हैं। शनिवार को एक बजे से को¨चग में शाम में अपने बच्चों को शिक्षा देते हैं। बाकी दिन चार बजे से दूरस्थ गांव के छात्र छात्राओं को फिर लड़के को तथा शाम में गांव के बच्चों को पढ़ाते हैं। शिक्षक दादा सोमेश्वर से मिली प्रेरणा नंदन को शिक्षा दान की प्रेरणा अपने दादा सोमेश्वर ठाकुर से मिली है। उनके दादा शिक्षक थे और वे शेष समय में बच्चों को निश्शुल्क शिक्षा देते थे। इतना ही नहीं नंदन संस्कृत भाषा की गहन जानकारी रखने के कारण पूजा पाठ भी करा लेते हैं। डुमरी गांव से 50 किलोमीटर दूर जिला मुख्यालय में रहकर इस कार्य को अंजाम देना एक सतत संघर्ष का ही नतीजा है। संचालन कर रहे प्रदीप ने कहा कि भाषा प्रवाह, भाषा को विलुप्त होने से बचाने तथा भारतीय संस्कृति की रक्षा में नंदन का कार्य उल्लेखनीय है। जिप सदस्य अजय भूईयां ने कहा कि हर विषय का महत्व है पर ¨हदी और संस्कृत हमारे देश की जन भाषा है। मुखिया संघ अध्यक्ष सह पंचायत मुखिया रवींद्र कुमार यादव ने कहा कि इनका कार्य बच्चों में अनुशासन ज्ञानार्जन से स्पष्ट दिखता है। शंभूशरण कुमार, अनिल कुमार मिश्र, प्रो. दिलीप कुमार, महेश शर्मा, विश्वजीत गुप्ता ने बच्चों को परीक्षा में सफलता के टिप्स दिए।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप