जागरण संवाददाता, औरंगाबाद : सदर अस्पताल में पदस्थापित चिकित्सक डा. आलोक राजन को सिविल सर्जन डा. कुमार वीरेंद्र प्रसाद ने कार्रवाई करते हुए ड्यूटी से हटा दिया है। डा. आलोक राजन अब सदर अस्पताल में रोस्टर के अनुसार ड्यूटी नहीं करेंगे। सिविल सर्जन ने बताया कि डा. आलोक राजन पर कार्रवाई करने के लिए विभाग को पत्र लिखा जा रहा है। पूर्व में पटना बोर्ड में मेंटल जांच के लिए कई बार डा. आलोक को भेजा गया परंतु वे वहां नहीं गए हैं। 

इमरजेंसी कक्ष में शनिवार रात हुई थी मारपीट

बताया गया कि सदर अस्पताल के इमरजेंसी कक्ष में शनिवार रात डा. आलोक और डा. प्रवीण कुमार अग्रवाल के बीच मारपीट की घटना हुई है। मारपीट के दौरान सदर अस्पताल में घंटों अफरा तफरी का माहौल बन गया था। मारपीट में प्रथम दृष्टया डा. आलोक को दोषी पाया गया है। चिकित्सक डा. प्रवीण मरीजों का इलाज कर रहे थे इसी बीच डा. आलोक इमरजेंसी कक्ष में पहुंचे और उनके साथ बहस के बाद मारपीट शुरू कर दी। कमरे की खिड़की में लगे पर्दा की राड से डा. आलोक ने डा. प्रवीण के पर हमला कर दिया था। इस दौरान अस्पताल में भगदड़ मच गई थी।

मरीज के स्वजनों से भी करते रहते हैं मारपीट

स्वास्थ्यकर्मी से लेकर मरीज व उनके स्वजन इधर-उधर भागने लगे थे। घटना की सूचना पर एसडीएम विजयंत एवं अस्पताल उपाधीक्षक डा. आशुतोष कुमार पहुंचे। अधिकारियों ने किसी तरह दोनों को समझाकर मामले को शांत कराया। बताया गया कि डा. आलोक हमेशा विवाद मेंं रहते हैं। कई बार मरीजों के स्वजनों के साथ मारपीट कर दिए हैं। विभागों में जाकर विवाद उत्पन्न करते हैं। मरीजों के साथ गाली-गलौज तक कर देते हैं। अस्पताल उपाधीक्षक डा. आशुतोष कुमार ने बताया कि पूरे मामले की जानकारी डीएम को दी गई है। घटना के बाद अब डा. आलोक को सदर अस्पताल में ड्यूटी पर तैनात नहीं किया जाएगा।

Edited By: Prashant Kumar Pandey

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट