औरंगाबाद। देव थाना के पश्चिमी केताकी पंचायत के मंझौली गांव में शनिवार की रात विषाक्त मिठाई खाने से बराती व सराती पक्ष के कुल 150 लोग बीमार पड़ गए। ग्रामीणों एवं बाराती के बीमार पड़ते ही गांव में अफरातफरी का माहौल कायम हो गया। जल्दी-जल्दी सभी बीमार ग्रामीण एवं बराती को इलाज के लिए स्थानीय प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र देव लाया गया। जहां चिकित्सकों ने सभी बीमार लोगों को स्लाइन व दवा दी गई। तब जाकर सभी की हालत में सुधार होने लगा। देव के पीएचसी प्रभारी डा. मो. शमीम ने बताया कि विषाक्त मिठाई खाने से सभी बीमार पड़े थे। प्रभारी ने बताया कि करीब 50 लोगों का इलाज देव अस्पताल एवं करीब 100 बराती का इलाज सदर अस्पताल में किया गया। बीमार ग्रामीण एवं बाराती में मंदीप यादव, अशोक कुमार, दिनेश कुमार, रवींद्र कुमार, अर्जुन यादव, छोटी कुमारी, अमृता कुमारी, निशा कुमारी, प्रिस कुमार, रेणु कुमारी, रवींद्र कुमार, ललिता देवी, खुशी कुमारी, छोटी कुमारी, दिनेशा कुमार, रानी कुमारी, राकेश कुमार, विकास कुमार, मोनू कुमार, अशोक कुमार, संध्या कुमारी, भैरव कुमार, अमृता कुमारी, लखन यादव, विकास कुमार, प्रदीप कुमार, रेणु कुमारी, अनिता कुमारी, पंकज कुमार, नंदनी कुमारी, चांदनी कुमारी, सूरज कुमार, सुजीत कुमार, निर्मला देवी, उर्मिला कुमारी का नाम शामिल है। बताया जाता है कि मंझौली गांव में सुरेश यादव की पुत्री की शादी को लेकर मदनपुर थाना के शिवगंज गेवाल बिगहा निवासी युगेश्वर यादव उर्फ नाथुन यादव के पुत्र वीरेंद्र यादव के यहां से बारात आई थी। बारात आने के बाद लड़की पक्ष के तरफ से बराती एवं ग्रामीणों को नाश्ता में मिठाई खिलाया गया। मिठाई खाते ही बाराती एवं ग्रामीणों के पेट में दर्द होने लगा। दस्त शुरू हो गई। सभी की हालत बिगड़ने लगी। सूचना मिलते ही देव अस्पताल से गांव में एंबुलेंस भेजा गया और बीमार लोगों को अस्पताल लाया गया। यहां प्रभारी की मौजूदगी में डाक्टर जन्मेजय कुमार, डा. साकेत सिंह, डा. बीके सैनिक के साथ एएनएम निर्मला कुमारी, पुष्पा कुमारी, सुधा कुमारी, एमेंडा डुंगडुंग, हीरामणी समेत अन्य एएनएम इलाज में जुट गए। कुछ बीमार ग्रामीणों को रात्रि में ही घर भेज दिया गया तो कुछ तो रविवार सुबह भेजा गया।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप