अरवल : पोषण माह को लेकर मंगलवार को प्रधानमंत्री द्वारा वीडियो कॉन्फ्रें¨सग के माध्यम से आंगनबाड़ी कार्यों से जुड़ी सेविका-सहायिका एएनएम एवं आशा कर्मियों को संबोधित किया गया । प्रधानमंत्री द्वारा कुपोषण के बारे में विस्तार से बातें की गई। उन्होंने कहा कि गरीब एवं गंभीर बीमारी के इलाज के लिए लाचार महसूस नहीं करेंगे और अपना सब कुछ गिरवी रखने को मजबूर नहीं होंगे। सरकार ने इसके लिए आयुष्मान भारत के तहत पांच लाख के स्वास्थ्य बीमा का चयन किया है। इसी तरह से उचित जानकारी के अभाव के कारण लोग कुपोषण के शिकार हो रहे हैं। सरकार आंगनवाड़ी कर्मियों तथा आशा कर्मियों के माध्यम से लोगों कुपोषण के कारण एवं निवारण की जानकारी दे रही है । आप सभी गर्भवती महिलाओं, नवजात शिशुओं आदि के घर जाकर कुपोषण मिटाने का कार्य करें, क्योंकि कुपोषण के साथ स्वस्थ देश की पहचान नहीं हो सकती है। हम लोगों को इस माह सितंबर में कुपोषण के विरुद्ध जंग छेड़ना है ।आज के इस संवाद में प्रधानमंत्री द्वारा आंगनबाड़ी सेवा से जुड़े कर्मियों को मानदेय बढ़ाने की भी बात कही । जिसको लेकर आंगनवाड़ी एवं आशा कर्मियों में खुशी व्याप्त है। कलेर प्रखंड के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में प्रधान मंत्री के संवाद को लोगों ने सुना ।इस अवसर पर बाल विकास परियोजना पदाधिकारी सुधा कुमारी, सीओ ललन कुमार, केयर इंडिया के मनीष तथा इधर कलेर में सीडीपीओ कुमारी पूजा , स्वास्थ्य प्रबंधक अशरफ कमाल, बीसीएम मोहम्मद खान बाबू ,महिला पर्यवेक्षिका अंजली कुमारी रेखा कुमारी, केयर इंडिया के प्रखंड प्रबंधक अवध किशोर, लेखा सहायक सहित सैकड़ों की संख्या में आंगनबाड़ी सेविका आशा  एएनएम  आदि लोग मौजूद थे।

Posted By: Jagran