अरवल : भाकपा माले समर्थकों ने ने अयोध्या में प्रधानमंत्री द्वारा मंदिर के निर्माण को ले भूमि पूजन के विरोध में जिला मुख्यालय समेत प्रखंडों में प्रतिवाद मार्च निकाला। पार्टी के जिला सचिव महानंद ने कहा कि प्रधानमंत्री तथा मुख्यमंत्री किसी भी धर्म के पूजा पाठ करना कहीं से उचित नहीं है। यह संविधान के धर्मनिरपेक्षता की भावना के विपरित है। पूजा पाठ का कार्य साधु-संतों का होता है। संवैधानिक पदों पर बैठे लोगों के लिए तो सभी धर्म एक समान है। अभी देश कोरोना महामारी के संकट से जूझ रहा है। लोगों में भय का माहौल है। आम लोगों के लिए अन्य बीमारी के इलाज भी नहीं हो रहे हैं जिससे असमय इलाज के अभाव में लोगों की मृत्यु हो जा रही है। इन समस्याओं के समाधान के लिए सरकार को ठोस कदम उठाने की जवाबदेही तय है लेकिन मंदिर के लिए काम करना कहीं से उचित नहीं है। उन्होंने कहा कि भाजपा के नेताओं द्वारा कोरोना जैसे महामारी को लेकर अनाप-शनाप सुझाव दिए जा रहे हैं। पूरी दुनिया इसे गंभीरता से लेते हुए इलाज के लिए दवाई की खोज में दिन रात लगे हुए हैं। लेकिन ऐसे वक्त में हमारे देश के हुक्मरान धार्मिक अनुष्ठान संपन्न कराने में लगे हुए हों तो देश का भविष्य का क्या होगा। प्रतिवाद मार्च का आयोजन पूरे जिले में किया गया। जिला कार्यालय में रविन्द्र यादव, सुएब आलम, नंद किशोर कुमार, विजय सिंह, मनोज यादव, बीरबल प्रसाद, कृष्ण कुमार कलेर में प्रखंड सचिव जितेंद्र यादव, उमेश कुमार, सूर्यनाथ सिंह, सुरेंद्र प्रसाद, करपी में उपेंद्र पासवान, कुर्था में महेश यादव और अवधेश यादव के नेतृत्व में कार्यक्रम सम्पन्न हुआ। वहीं निघवां गांव में अखिल भारतीय किसान महासभा के राष्ट्रीय सचिव डॉ. रामाधार सिंह के नेतृत्व में कार्यक्रम का आयोजन किया गया।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस