अररिया। अररिया लोकसभा उपचुनाव में काफी मतों के अंतराल से जीत दर्ज कर सरफराज आलम ने अपने दिवंगत पिता तस्लीमुद्दीन की सीट को बचाने में कामयाबी हासिल की है। उन्होंने जीत हासिल करने के बाद संवाददाताओं से कहा कि यह जीत लोकसभा क्षेत्र की जनता की जीत है जिन्होंने मुझे इस लायक समझा। नवनिर्वाचित राजद सांसद सरफराज आलम ने कहा कि इस जीत के लिए वे राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव, तस्लीमउद्दीन के सिद्धांत, तेजस्वी यादव तथा यूपीए गठबंधन की नीति और विचारों की जीत बताई । उन्होंने जीत के लिए राजद, कांग्रेस, हम, राकांपा सहित सभी यूपीए कार्यकर्ताओं की कड़ी मेहनत के लिए धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि बिना पक्षपात के पूरे लोकसभा क्षेत्र के विकास के लिए हरसंभव कोशिश करता रहूंगा। अररिया जिलेवासियों ने जीत दिलाकर मुझे एक बड़ी जिम्मेदारी सौंपी है। मैं उनके इस निर्णय पर खरा उतरने की कोशिश करूंगा। ये जीत सामाजिक न्याय की जीत है। सभी संप्रदाय, जातियों का वोट और अपार समर्थन उन्हें मिला है। केन्द्र सरकार पर हमला करते हुए सरफराज आलम ने कहा कि मोदी सरकार सीमांचल के विकास के प्रति उदासीन है। उन्होंने कहा कि किसानों और बेरोजगार युवाओं के रोजगार के लिए संसद में आवाज बुलंद करूंगा। सांसद ने कहा महानंदा बेसिन परियोजना, अररिया गलगलिया, अररिया सुपौल, जलालगढ किशनगंज रेल परियोजना उनके पिता तस्लीमउद्दीन के सपने थे जिसे धरती पर उतारना , सीमांचल में सामाजिक सौहार्द कायम रखना उनकी प्राथमिकताएं होगी। मौके पर नरपतगंज विधायक अनिल यादव, पोलो झा, पूर्णिया जिप उपाध्यक्ष छोटू ¨सह, रफीक आलम, पूर्व विधायक दिलीप यादव, राजद नेता अरूण यादव, शाहनवाज आलम, राजद जिलाध्यक्ष कमरूज्जमा , जोकीहाट प्रमुख प्रतिनिधि कैयूम, सलीमुद्दीन, इफ्तखार आलम उर्फ मुन्ना, मुखिया नौशाद आलम, मायानंद यादव, शाहबाज आलम, कृष्णा ¨सह, जकी अख्तर अंसारी, वाजुद्दीन, नन्हे राजा, रब्बानी, बब्बू झा, गुड्डू झा, शब्बीर अहमद, आरफीन, शमीम उर्फ पप्पू ,आशिक सहित बड़ी संख्या में समर्थक व कार्यकर्ता मौजूद थे।

Posted By: Jagran