संसू., फुलकाहा (अररिया): नरपतगंज प्रखंड के भारत- नेपाल सीमा से सटे फुलकाहा घूरना एवं नरपतगंज थाना क्षेत्र तथा बसमतिया ओपी क्षेत्र में दर्जनों दवा दुकानें बिना अनुज्ञप्ति की चल रही है। दवा दुकान चलाने वाले मरीजों का इलाज कर रहे हैं। इस शिकायत पर छह मार्च को डीआइ ने जांच की थी।

अन्य दवा दुकानदार को भनक लगते ही अपनी दुकान बंद कर खिसक लिए। डीआइ दवा के सैंपल अपने साथ जांच कराने के लिए ले गए। उन्होंने कहा था कि जल्द ही बिना अनुज्ञप्तिधारी दवा विक्रेता की दुकान की जांच की जाएगी। जांच के बाद से अब तक डीआइ के द्वारा कोई जांच यहां नहीं हुई।

ग्रामीणों की मानें तो अनुभव एवं जानकारी के अभाव में दवा दुकानदारों द्वारा मनमाने ढंग से दवा बेचना जोखिम भरा काम है इससे कई लोग गंभीर बीमारी के चपेट में आ जाते हैं। सरकार ने चुनावों के दौरान सभी अवैध दवाओं की बिक्री एवं बगैर लाइसेंस के चलाए जा रहे दवा संचालकों के विरूद्ध कठोर कार्यवाही किये जाने की घोषणा की थी।

इस संबंध में जब डीआइ शिवशंकर कुमार से मोबाइल पर बात की गई तो उन्होंने कुछ भी बताने से इंकार कर दिया। जबकि उन्होंने पूर्व में कहा था कि दवा का सैंपल पटना जांच के लिए भेजा गया है रिपोर्ट आने के बाद कार्रवाई की जाएगी।

---कोट---

अररिया सिविल सर्जन सुरेश प्रसाद सिन्हा ने कहा कि इसकी जानकारी मुझे मिली थी उसके बाद की क्या कार्रवाई की गई है ड्रग इंस्पेक्टर से जानकारी लेकर आगे की कार्रवाई वे अपने से खुद आकर जांच करेंगे।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran