Move to Jagran APP

Bihar Lok Sabha Result 2024: हारकर भी जीत गई RJD, बीजेपी के गढ़ में कर दी सेंधमारी; लालू की रणनीति आ गई काम

Bihar News वो हार कर भी जीत गए। हम जीत कर भी हार गए। कैसी बाजी कैसी चाल चली। कैसे पिटे कहां मार खा गए। गैरों में कहां दम था। अपने ही हम को मार गए। यह कसक अररिया लोकसभा चुनाव के परिणाम आने के बाद भाजपा और आरजेडी के खेमों में है। आरजेडी को जहां हारने का मलाल है तो वहीं खुद को मजबूत करने की खुशी भी है।

By Prashant Prashar Edited By: Sanjeev Kumar Thu, 13 Jun 2024 04:55 PM (IST)
लालू यादव और पीएम नरेंद्र मोदी (जागरण)

प्रशांत परासर, अररिया। Bihar Election Result 2024: वो हार कर भी जीत गए। हम जीत कर भी हार गए। कैसी बाजी कैसी चाल चली। कैसे पिटे कहां मार खा गए। गैरों में कहां दम था। अपने ही हम को मार गए।

यह कसक अररिया लोकसभा चुनाव के परिणाम आने के बाद भाजपा और लालू (Lalu Yadav) की आरजेडी के खेमों में है। भले ही अररिया लोकसभा चुनाव में भाजपा प्रत्याशी प्रदीप कुमार सिंह ने 20,094 वोटों के अंतर से राजद प्रत्याशी शाहनवाज आलम को मात दे दी है, लेकिन इतने कम वोट से इस जीत के बाद कई सवाल भी खड़े हो रहे हैं। 2019 के चुनाव में भाजपा के प्रदीप कुमार सिंह को 1.37 लाख वोटों के शानदार अंतर से जीत मिली थी। तो क्या अब भाजपा के गढ़ माने जाने वाले क्षेत्रों में भाजपा की पकड़ ढीली पड़ती जा रही है?

नरपतगंज, फारबिसगंज, सिकटी और रानीगंज विधानसभा में 2019 के लोकसभा चुनाव की तुलना में इस बार भाजपा को कम वोट मिले हैं। जबकि वोटरों की संख्या बढ़ी है। इन चारों विधानसभा में एनडीए के विधायक भी हैं। मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्र जोकीहाट में भाजपा का वोट प्रतिशत बढ़ा है।

राजद की बात करें तो इन चार विधानसभा में 2019 की लोकसभा चुनाव की तुलना में वोट प्रतिशत बढ़ा है। लेकिन मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्र जोकीहाट व अररिया में वोटों के बिखराव को रोक पाने में नाकाम रहने के कारण राजद प्रत्याशी शाहनवाज आलम की हार मानी जा रही है। जोकीहाट से स्वयं शाहनवाज आलम तो अररिया में कांग्रेस के विधायक हैं। 

भाजपा को लगा झटका 

2019 के लोकसभा चुनाव में भाजपा प्रत्याशी प्रदीप कुमार सिंह को नरपतगंज में 1,30,200 वोट मिले थे, इसबार सिर्फ 1,22,421 मत मिले। पिछले चुनाव की तुलना में भाजपा को 7779 वोट कम मिले। राजद के सरफराज आलम को 2019 में नरपतगंज विधानसभा में मात्र 61,366 वोट मिले थे, इस बार वोट बढ़कर 83,467 हो गया। रानीगंज में भाजपा को पिछली बार 1,09,949 वोट मिले थे, इस बार केवल 1,06,300 मत प्राप्त हुआ है। 3649 वोटों का नुकसान हुआ है।

राजद को पिछली बार रानीगंज में 67,298 मत मिले थे जो इस बार बढ़कर 88,069 हो गया। इस तरह 20771 वोटों का फायदा हुआ है। इसी प्रकार फारबिसगंज में भाजपा को पिछली बार की तुलना में 605 वोट अधिक आया है। वहीं यहां राजद को 13,094 वोट का फायदा हुआ है। अररिया में भाजपा को 2019 की तुलना में 2571 वोट कम आया। जबकि राजद को 15505 वोट अधिक मिले हैं। मजेदार बात है कि जोकीहाट में पिछले लोकसभा चुनाव की तुलना में भाजपा को 1181 अधिक वोट प्राप्त हुआ है। 

यह भी पढ़ें

Jitan Ram Manjhi: मंत्री बनते ही मांझी ने खाई कसम; पीएम मोदी से कर दिया बड़ा वादा; कहा- मैं प्रण लेता हूं कि...

Patna Metro Update: पटना मेट्रो को लेकर नया अपडेट, अब इस रूट के लिए खुदाई शुरू; 5 स्टेशन होंगे कवर