जागरण संवाददाता, अररिया: जिले में धान खरीदारी का लक्ष्य पूरा करने के लिए पूरा प्रयास विभाग द्वारा हो रहा है। धान खरीद के मामले में बुधवार तक पूरे बिहार में अररिया दूसरे नंबर पर था। जबकि सुपौल पहले स्थान पर रहा। अब धीरे धीरे धान खरीदारी की रफ्तार में तेजी आ रही है। जिले में 14 हजार 884 निबंधित किसान है। 196 पैक्स चयनित किए गए है। जिसमें 193 पैक्स व आठ व्यापार में धान की खरीद चल रही है। पैक्स की संख्या बढ़ भी सकती है। एक नवंबर से धान खरीद की प्रक्रिया शुरू हो चुकी है। 15 फरवरी तक धान लिए जाएंगे। अभी तक 7.3 फीसद तक खरीद हो चुकी है। इस वर्ष लक्ष्य एक लाख 31 हजार जिले का निर्धारित था। लेकिन फसल क्षति होने के कारण इसे घटाकर 89 हजार एमटी कर दिया गया है। पिछले वर्ष 90 हजार एमटी था। 1940 रुपये प्रति क्विटल की दर पर धान खरीद हो रही है। 17 फीसद तक नमी हो।

सहकारिता विभाग द्वारा लक्ष्य हासिल करने के लिए लगातार प्रयास किया जा रहा है कि अधिक से अधिक किसानों से धान की खरीद हो जाए। अभी तक 25 नवंबर तक कुल 767 किसान से 6888.758 एमटी धान की खरीद की गई है जो पूरे बिहार में दूसरे नंबर पर अररिया है। जबकि पहले स्थान पर 25 नवंबर तक सुपौल था। भुगतान भी पचास प्रतिशत किसानों को हो चुका है। जिले में कुल 218 पैक्स है। 196 पैक्स व आठ व्यापार मंडल को चयनित किया गया। जिसमें 193 पैक्स व आठ व्यापार मंडल में धान की खरीद की जा रही है।

--------------------------------------------------------------------------------------------------------------

बाढ़ व आई बारिश से खेतों में खेतों में पककर तैयार गेहूं की फसल जब किसान काटने के लिए तैयार थे तो अचानक अक्टूबर माह में आई बाढ़ ने फसल को बर्बाद कर दिया। कई इलाकों में धान की फसल कट भी चुकी थी। इसको देखते हुए विभाग द्वारा इस बार लक्ष्य को घटा दिया गया है।

------------------------------------------------------------------------------------------------- कोट धान की खरीदारी एक नवंबर से शुरू हो चुकी है। जिले में 14 हजार 884 निबंधित किसानों से धान लिया जाएगा। 17 फीसद तक धान की नमी हो। जिले में धान खरीद की रफ्तार काफी अच्छी है। उम्मीद है इस बार लक्ष्य शत प्रतिशत हासिल हो जाए। इस बार बाढ़ व बारिश के कारण फसल को काफी नुकसान पहुंचा था। इसको देखते हुए धान की खरीदारी का लक्ष्य घटाकर 89 हजार एमटी कर दिया गया है। सात प्रतिशत तक किसानों से धान की खरीदारी हो चुकी है तथा पचास प्रतिशत भुगतान भी हो चुका है। मिथिलेश कुमार, जिला सहकारिता पदाधिकारी अररिया।

Edited By: Jagran