नई दिल्ली (ऑटो डेस्क)। हाल ही में एथर एनर्जी ने इलेक्ट्रिक स्कूटर एथर 340 लॉन्च किया था। इस स्कूटर को भारत में इलेक्ट्रिक मोबिलिटी के क्षेत्र में एक नई शुरुआत माना जा रहा है। अब सवाल यह उठता है कि यह स्कूटर कन्वेंशनल स्कूटर के मुकाबले कैसा रहेगा? इस सवाल का जवाब देने के लिए आपको इसकी होंडा के पॉपुलर स्कूटर होंडा एक्टिवा 5G के साथ तुलना बता रहे हैं ताकि आप खुद इसका अंदाजा लगा सकें।

होंडा एक्टिवा 5G DLX वेरिएंट की कीमत 66,378 रुपये है। तुलना के लिए मान लेते हैं कि आप इस पर रोजाना 40 किलोमीटर का सफर तय करते हैं। छोटे शहरों के लिए यह दूरी काफी है, लेकिन बेंगलुरू जैसे बड़े शहरों के लिए यह दूरी आम है। तुलना के बेंगलुरु को इसलिए चुना गया है क्योंकि एथर स्कूटर बिक्री के लिए अभी सिर्फ इसी शहर में उपलब्ध है। हम तुलना के लिए नीचे एक्टिवा के कुछ आंकड़े दे रहे हैं-

एक साल में स्कूटर से तय किया गया सफर- 40 किमी प्रतिदिन x 6 दिन x 52 हफ्ते = 12,480 किलोमीटर

शहर में स्कूटर की माइलेज- 58 किमी प्रति लीटर 

साल में ईंधन की खपत- 12,480 किमी / 58 = 215 लीटर

बेंगलुरु में प्रति लीटर की अनुमानित कीमत- 80 रुपये

एक साल में ईंधन की अनुमानित लागत- 215 x 80 =  17,200 रुपये

एक्टिवा की प्रत्येक फ्री सर्विस की मेंटनेंस कोस्ट लगभग 350 रुपये है। एक्टिवा के साथ साल में 4 फ्री सर्विस मिलती है। चौथी सर्विस में डीलर एयर फिल्टर और स्पार्क प्लग की रिप्लेसमेंट करने की सलाह देते हैं। इस रिप्लेसमेंट का खर्च लगभग 407 रुपये है। पहले साल में एक्टिवा की सर्विस कोस्ट 1400 रुपये और कुल मेंटनेंस लागत 1400+407= 1807 रुपये हो गई। मान लेते हैं कि इसके अलावा बिना वारंटी वाले कंपोनेंट पर एक हजार रुपये का खर्च आता है। इस तरह एक्टिवा की एक साल की मेंटनेंस लागत 2807 रुपये हो गई। इस हिसाब से एक्टिवा की एक साल की कुल रनिंग कोस्ट 17200 और 2807 यानी लगभग 20 हजार रुपये हो गई। इसके बाद दूसरे साल में हर सर्विस का खर्चा 720 रुपये है। चार सर्विस का यह अमाउंट 2880 रुपये हो जाता है।

दूसरी ओर एथर 340 की कीमत 1,09,750 रुपये है। इस तरह यह एक्टिवा की कीमत और उसकी एक साल की कुल लागत मिलकर लगभग 86,300 रुपये से 23 हजार से ज्यादा का अंतर है। पहले साल यह दोनों की रनिंग कोस्ट में यह अंतर बना रहेगा। बता दें कि एथर पर पहले साल कोई एक्स्ट्रा पैसा लगाने की जरुरत नहीं होगी।

दूसरे साल में एक्टिवा की रनिंग पहले साल के मुकाबले थोड़ी बढ़ जाएगी। इसकी वजह तेल की कीमतों में इजाफा, मैटेरियल कोस्ट आदि हो सकती हैं। इसलिए हम इसकी सर्विस कोस्ट में एक हजार रुपये और जोड़ देते हैं। अगर किसी पार्ट को चेंज ना करवाना पड़े तो इसकी दूसरे साल की मेंटेनेंस कोस्ट लगभग 3,880 रुपये होगी। मान लेते हैं कि तेल की कीमतें नहीं बढ़ी हैं और इसका तेल का खर्चा पहले साल जितना ही है। इस हिसाब से देखा जाए तो दो सालों में एक्टिवा की बाय और रनिंग कोस्ट 1,07,465 रुपये होगी, जो एथर की बाय कोस्ट से भी कम है।

वहीं, एथर पर दूसरे साल 9,900 रुपये (सब्सक्रिप्शन फीस) का खर्च आयेगा और यही इसकी दूसरी साल की रनिंग कोस्ट होगी। ऐसे में अगर हम इसकी बायिंग कोस्ट में 9,900 रुपये जोड़ दें तो 2 सालों में इस पर कुल खर्च 1,19,662 रुपये आएगा।

मान लेते हैं कि तीसरे साल में एथर की सब्सक्रिप्शन कोस्ट में 10 प्रतिशत का और पेट्रोल की कीमतों में 2 रुपये प्रति लीटर का इजाफा होगा। इस तरह देखें तो तीसरे साल में एक्टिवा की फ्यूल कोस्ट 17,630 रुपये और सर्विस कोस्ट 4,268 रुपये होगी। ऐसे में तीन सालों में एक्टिवा की बायिंग, मेंटनेंस और रनिंग कोस्ट 1,29,363 रुपये होगी। वहीं तीसरे साल में एथर की सबस्क्रिप्शन फीस 10,903 रुपये होती है तो तीन सालों में एथर की बायिंग, मेंटनेंस और रनिंग कोस्ट 1,30,565 रुपये होगी।

इस कैलकुलेशन के हिसाब से तीन साल बाद एक्टिवा और एथर, दोनों स्कूटर की कुल लागत लगभग बराबर हो जाएगी। एथर 340 की बैटरी की 3 साल तक वारंटी है। कंपनी का दावा है कि तीन साल बाद यह अपनी कैपेसिटी का 70 प्रतिशत इस्तेमाल करेगी। साथ ही कंपनी OTA सॉफ्टवेयर अपडेट भी जारी करेगी, जिससे बैटरी कंजप्शन और कम होगा। इसके बाद बैटरी कम से कम दो साल तक और चलेगी। इसके बाद अगर आपको बैटरी चेंज करनी हो तो इसकी कीमत का ख्याल रखना होगा। हालांकि, कंपनी ने अभी तक बैटरी की लागत बताई नहीं है, लेकिन माना जा रहा है कि इसकी लागत काफी ज्यादा होगी।

एथर में एक्टिवा के मुकाबले बड़ा बूट स्पेस, स्मार्ट टचस्क्रीन और OTA अपडेट जैसे फीचर हैं जो ड्राइवर के अनुभव को बेहतर बनाते हैं। इसके अलावा इलेक्ट्रिक स्कूटर होने के नाते यह प्रदूषण कम करने में भी योगदान देगा।

अगर आप इन दोनों में से किसी एक को खरीदना चाहते हैं तो तुलना आपके सामने है। अगर कीमत की बात करें तो एथर की कीमत ज्यादा हैं। वहीं पहले तीन सालों तक दोनों की रनिंग कोस्ट या तीन सालों की कुल लागत लगभग समान है।

Posted By: Ankit Dubey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप