नई दिल्ली, ऑटो डेस्क। लगातार Covid-19 के मामलों में बढ़ोतरी को देखते हुए टोयोटा मोटर कॉर्प ने जापान और चीन में अपने कुछ प्रमुख कारखानों में काम पर रोक लगा दिया है। टोयोटा के प्रवक्ता ने कहा कि शटडाउन के चलते जनवरी में उत्पादन में 47,000 वाहनों की कमी देखने को मिल सकती है।

कम्पनी ने कोविड -19 के बढ़ते मामलों के कारण ऑटोमोबाइल उत्पादन को रोक दिया है, जिस वजह से जापान में इसके आपूर्तिकर्ताओं और संचालन को प्रभावित किया है, इसके अलावा बड़े पैमाने पर चल रहे परीक्षण के कारण चीन में उत्पादन में गड़बड़ी भी देखने को मिली है। आपको बता दें कि चीन में इन कारखानों को एक सप्ताह से अधिक के लिए बन्द कर दिया गया है।

टोयोटा ने Tsutsumi Plant और मध्य जापान प्लांट पर रोक लगाई गई है। जिसमें 1500 वाहनों के उत्पादन में कटौती की गई है। टोयोटा की लोकप्रिय कैमरी सेडान (Camry sedan) आइची प्रान्त के कारखाने में निर्मित मॉडलों में से एक है।

कंपनी के एक प्रवक्ता ने कहा कि इन संयुक्त शटडाउन से जनवरी माह में ऑटोमेकर के उत्पादन में लगभग 47,000 वाहनों की कमी आएगी।

टोयोटा ने चीन के तियानजिन में भी परिचालन को निष्क्रिय कर दिया, क्योंकि बीजिंग के पास बंदरगाह शहर में वायरस के बढ़ने के कारण स्थानीय सरकार ने बड़े पैमाने पर परीक्षण किया। टोयोटा ने इस सप्ताह यह भी कहा है कि वह इस वित्तीय वर्ष में 9 मिलियन कारों के निर्माण के अपने लक्ष्य तक नहीं पहुंच सकती है, क्योंकि चल रही चिप की कमी ऑटो उद्योग को तंग कर रही है।

दूसरी ओर, होंडा मोटर कंपनी जैसे वाहन निर्माताओं ने भी कहा कि निकटवर्ती एमआई प्रीफेक्चर में सुजुका प्लांट फरवरी की शुरुआत में लगभग 90 प्रतिशत क्षमता पर काम करेगा। इसने उत्पादन में कटौती के कारणों के रूप में चिप संकट और बढ़ते कोविड -19 मामलों का भी हवाला दिया।

निसान मोटर कंपनी के मुख्य कार्यकारी अधिकारी माकोतो उचिदा ने कहा कि कंपनी "रिकवरी ट्रैक पर" है, भले ही चिप की कमी की स्थिति अनिश्चित बनी हुई है। हम उम्मीद करते हैं कि बाजार ठीक हो जाएगा।

Edited By: Atul Yadav