नई दिल्ली, ऑटो डेस्क। इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग पॉइंट ऑपरेटर स्टार्टअप कंपनी मैजेंटा ने तमिलनाडु में ईवी चार्जिंग संबंधी बुनियादी ढांचे के निर्माण में निवेश करने के लिए राज्य सरकार के साथ एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किया। मैजेंटा विनिर्माण इकाई स्थापित करने के लिए करीब 250 करोड़ रुपये का निवेश करेगी। इस एमओयू पर हस्ताक्षर तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एमके. स्टालिन के मौजूदगी में हुआ। कंपनी का कहना है कि सरकार के प्रगतिशील और निवेशक अनुकूल रवैये की वजह से राज्य देश में इलेक्ट्रिक वाहनों का नया गढ़ बनने के लिए तैयार है।

मैजेंटा का कहना है कि लगभग 250 करोड़ रुपये के साथ संयंत्र ई-मोबिलिटी क्षेत्र में ईवी (इलेक्ट्रिक वाहन) प्रौद्योगिकियों के लिए डिजाइन, उत्पाद विकास और वास्तुकला से जुड़े मानकों पर ध्यान केंद्रित करने की योजना है।

कंपनी के अनुसार, वह तमिलनाडु में अगले दो वर्षों में लगभग 500 नौकरियां पैदा करेगी और अगले पांच वर्षों में ईवी चार्जर निर्माण, असेंबली, इंस्टॉलेशन और ऑपरेशन में 1,600 से अधिक कर्मचारियों को प्रशिक्षित करेगी।

मैजेंटा के प्रबंध निदेशक और सीईओ मैक्सन लेविस ने कहा, "हम भारत में ईवी इकोसिस्टम को और भी मजबूत करना चाहते हैं, इस दिशा में हम तमिलनाडु सरकार से हाथ मिलाकर खुश हैं। हम स्किल्ड मैनफोर्स, स्ट्रॉन्ग इन्फ्रास्टक्चर, सरकार के सहयोग से राज्य को देश में अगला ईवी हब बनने के लिए तैयार हैं। तमिलनाडु सरकार के प्रगतिशील और निवेशक अनुकूल रवैये की वजह से यह सब संभव हो पा रहा है ।"

मैजेंटा का मुख्यालय मुंबई में है, जो इलेक्ट्रिक मोबिलिटी स्पेस में तीन सेगमेंट के माध्यम से मौजूद है। मैजेंटा चार्जग्रिड के तहत, यह इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिंग समाधान डिजाइन और डिप्लॉय करता है। मैजेंटा इंफोमैटिक्स इलेक्ट्रिक मोबिलिटी स्पेस का विस्तार करने के लिए टेक्नोलॉजी विकसित करता है, जबकि मैजेंटा मोबिलिटी लोगों और कार्गो मूवमेंट के लिए इलेक्ट्रिक व्हीकल इनेबल्ड ट्रांसपोर्ट सॉल्यूशंस देता है।

कंपनी को 2018 में एचपीसीएल ने फंड दिया था, बाद चलकर 2019 में इसे शेल ने इनक्यूबेट किया गया था। यह माइक्रोसॉफ्ट स्टार्टअप प्रोग्राम द्वारा भी समर्थित है।

Edited By: Atul Yadav