नई दिल्ली, ऑटो डेस्क। सोसाइटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चरर्स (SIAM) की रिपोर्ट में ये खुलासा हुआ है कि मई महीना ऑटोमोबाइल सेक्टर के लिए काफी खराब रहा है। सियाम की तरफ से शुक्रवार को कहा कि भारत में मई महीने के दौरान यात्री वाहनों की थोक बिक्री इस साल अप्रैल की तुलना में 66 प्रतिशत घटकर 88,045 इकाई रह गई है। अगर बात करें अप्रैल महीने में यात्री वाहनों की बिक्री की तो ये आंकड़ा 2,61,633 यूनिट्स तक पहुंचा था। आपको बता दें कि कोविड-19 के बढ़ते मामलों को देखते हुए देश के ज्यादातर राज्यों में लॉक डाउन लगाया गया था और वाहनों की थोक बिक्री में दर्ज हुई भारी गिरावट उसी का नतीजा है। ऐसा इसलिए है क्योंकि लॉक डाउन की वजह से वाहनों के प्रोडक्शन प्लांट में काम-काज पूरी तरह से ठप हो गया था साथ ही डीलरशिप्स भी बंद थीं जिसकी वजह से वाहनों की बिक्री नहीं हो सकी।

सोसाइटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चरर्स (सियाम) के नवीनतम आंकड़ों के अनुसार, अप्रैल में 9,95,097 यूनिट्स की तुलना में डीलरों ने मई महीने में महज 3,52,717 यूनिट वाहनों को डिस्पैच किया। इसमें 65 प्रतिशत घटकर की गिरावट दर्ज हुई है। मोटरसाइकिल की बिक्री पिछले महीने 56 प्रतिशत घटकर 2,95,257 इकाई रही, जो अप्रैल में 6,67,841 इकाई थी।

इसी तरह, इस साल मई महीने में स्कूटर की बिक्री 83 प्रतिशत घटकर 50,294 इकाई रही, जो इसी साल अप्रैल महीने में 3,00,462 इकाई थी।अप्रैल में 13,728 इकाइयों की तुलना में तिपहिया वाहनों की बिक्री 91 प्रतिशत घटकर 1,251 इकाई रह गई। पिछले महीने सभी श्रेणियों में वाहनों की बिक्री 65 प्रतिशत घटकर 4,42,013 इकाई रही, जो इस साल अप्रैल में 12,70,458 इकाई थी।

बिक्री के आंकड़ों पर टिप्पणी करते हुए, सियाम के महानिदेशक राजेश मेनन ने कहा कि कई राज्यों में मई के अधिकांश भाग के लिए COVID-19 मामलों के कारण लॉकडाउन था, इस प्रकार महीने के दौरान कुल बिक्री और उत्पादन प्रभावित हुआ। उन्होंने कहा, "कई सदस्यों (ऑटो कंपनियों) ने चिकित्सा उद्देश्यों के लिए औद्योगिक उपयोग से ऑक्सीजन को हटाने के लिए अपने प्रोडक्शन प्लांट्स को भी बंद कर दिया था।" 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप