नई दिल्ली, ऑटो डेस्क। कांग्रेस की सीनियर लीडर प्रियंका गांधी और उनके काफिले को इस रविवार कई कारणों से उत्तर प्रदेश की पुलिस द्वारा रोक लिया गया। प्रियंका गांधी जो कि सेवानिवृत्त IPS अधिकारी SR दारापुरी के परिवार से मिलने के लिए वहां गई थीं फिर एक कांगेसी कार्यकर्ता के स्कूटर के पीछे बैठकर बिना हेल्मेट उन्होंने यात्रा की जिसके चलते पुलिस ने राइडर पर 6,100 रुपये का जुर्माना लगाया है। यह घटना लखनऊ में हुई जब यूपी पुलिस ने रिटायर्ड IPS अधिकारी के घर की तरफ जा रही प्रियंका गांधी के काफिले को रोक दिया।

प्रियंका विरोध प्रदर्शनों में भाग लेने के लिए पुलिस द्वारा हिरासत में लिए जाने के बाद वह सेवानिवृत्त अधिकारी के परिवार से मिलने जा रही थी। पुलिस के काफिले को रोकने के बाद कांग्रेस के एक कार्यकर्ता ने प्रियंका को लिफ्ट दी और इसी स्थिति की वीडियो और तस्वीरें इंटरनेट पर वायरल हो गईं।

यूपी ट्रैपिक पुलिस के एसपी पूरणेंदु सिंह ने इस बात की पुष्टि की है कि सड़कों पर खतरनाक तरीके से स्कूटर चलाने पर जुर्माना लगाया गया है। पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी ने यह भी कहा कि राइडर ने सार्वजनिक सड़कों पर कई अन्य नियम तोड़े हैं। उन्हें बिना हेल्मेट के सवारी करने, यातायात नियमों का उल्लंघन करने, गलत नंबर प्लेट वाले वाहन, खतरनाक ड्राइविंग और बिना वैध ड्राइविंग लाइसेंस के सवारी करने का चालान सौंपा गया था।

कांग्रेस के इस कार्यकर्ता की पहचान धीरज गुर्जर के रूप में हुई है और पुलिस ने उसे जुर्माना भरने और आरोपों को स्वीकार करने के लिए 15 दिनों की अनुमति दी है। हालांकि, यह साफ नहीं हो पाया है कि पुलिस ने धीरज को मौके पर लाइसेंस और अन्य दस्तावेजों की जांच करने के लिए रोका था या नहीं। प्रियंका ने यह भी कहा कि वह उन पुलिसकर्मियों से उलझी हुई थीं जो उन्हें IPS अधिकारी के आवास तक पहुंचने से रोक रहे थे। बता दें, स्कूटर राइडर को दिया गया जुर्माना नए मोटर व्हीकल एक्ट के अनुसार है जो कुछ महीने पहले पूरे भारत में लागू किया गया था। 

Posted By: Ankit Dubey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस