नई दिल्ली, ऑटो डेस्क। महिंद्रा एक्सयूवी700 की लॉन्चिंग के बाद से ही इसकी जबरदस्त डिमांड रही है। 12.95 लाख की शुरूआती कीमत से शुरू 23.79 लाख तक जाने वाली इस एसयूवी की डिमांड बिक्री चार्ट में सबसे ऊपर है। पिछले महीने इस एसयूवी ने हैरियर, सफारी, हेक्टर और अल्काजर जैसे अधिक बिक्री वाली मॉडलों को काफी पीछे छोड़ दिया है। महिंद्रा XUV700 को सितंबर 2021 में भारत में लॉन्च किया गया था। इसके पेट्रोल वेरिएंट की डिलीवरी अक्टूबर के आखिरी सप्ताह से शुरू हुई थी, जबकि XUV700 डीजल वेरिएंट की डिलीवरी नवंबर 2021 के अंत से ही शुरू हुई थी।

सेमी-कंडक्टर्स की भारी कमी के साथ-साथ भारी बुकिंग के कारण कंपनी को डिलीवरी टालनी पड़ी, जो आज भी जारी है। ये विस्तारित प्रतीक्षा अवधि न केवल नई बुकिंग के लिए है, बल्कि उन लोगों पर भी लागू होती है, जिन्होंने 7 अक्टूबर को शुरू हुई बुकिंग के पहले दौर और 8 अक्टूबर को दूसरे दौर में अपना ऑर्डर दिया था।

महिंद्रा XUV700 AWD लग्जरी वैरिएंट की डिलीवरी शुरू

इस महीने की शुरुआत में लग्जरी पैक के साथ महिंद्रा एक्सयूवी700 डीजल AWD वैरिएंट की डिलीवरी शुरू हुई। XUV700 AWD + Lux के पहले मालिक ने डिलीवरी ले ली है। महिंद्रा एक्सयूवी700 MX, AX3, AX5 और AX7 के चार ट्रिम्स और पेट्रोल और डीजल दोनों इंजन विकल्पों में उपलब्ध है। XUV700 की ऐसी मांग है कि प्रतीक्षा अवधि 5 महीने से बढ़ाकर 20+ महीने (1 साल और 8 महीने) तक हो सकती है, जो कि संस्करण पर निर्भर करता है।

लेटेस्ट अपडेट के अनुसार बेस XUV700 MX, AX3 और AX5 पेट्रोल ट्रिम्स में सबसे कम प्रतीक्षा अवधि 22 सप्ताह से 27 सप्ताह तक है। डीजल वेरिएंट में बेस एमएक्स वेरिएंट के लिए 33 से 35 सप्ताह की लंबी प्रतीक्षा अवधि मिलती है, जबकि एएक्स3 और एएक्स5 वेरिएंट में 50-52 प्रतीक्षा अवधि होती है।

टॉप स्पेक Mahindra XUV700 AX7 पेट्रोल वेरिएंट में 77-79 सप्ताह की प्रतीक्षा अवधि है, जबकि इसके डीजल संचालित समकक्ष के लिए 75-77 सप्ताह की प्रतीक्षा अवधि है। AX7L पेट्रोल और डीजल मॉडल को 86-88 सप्ताह की उच्चतम प्रतीक्षा अवधि मिलती है।

महिंद्रा XUV700 के वेटिंग पीरियड को नियमित रूप से अपडेट करती रही है। बुकिंग और डिलीवरी के आधार पर लगभग हर हफ्ते प्रतीक्षा अवधि बदल जाती है। 14 दिसंबर तक XUV700 का वेटिंग पीरियड 75 हफ्ते तक था। फिर 24 दिसंबर को इसे घटाकर 71 सप्ताह कर दिया गया। नवीनतम अपडेट के अनुसार, प्रतीक्षा अवधि फिर से बढ़ गई है और 88 सप्ताह तक की नई ऊंचाई पर पहुंच गई है।

Edited By: Sarveshwar Pathak