नई दिल्ली। रतन टाटा के ड्रीम प्रोजेक्ट को भले ही टाटा मोटर्स बाजार में टिकने के लिए संघर्ष करती दिखाई दे रही है। लेकिन रेनो-निसान अलायंस के चेयरमेन और सीईओ कार्लोस घोस्न ने रतन टाटा को धन्यवाद कहा है। कार्लोस का मानना है कि उनका ग्रुप रतन टाटा के दूरदर्शी प्रॉजेक्ट के आधार पर ही आगे बढ़ा है।

जेनेवा मोटर शो में घोस्न ने कहा हमने रतन टाटा द्वारा दिखाए गए रास्तो को फॉलो किया और मैं खुश हूं कि हमने नैनो को फॉलो किया क्योंकि भारत में रेनो की सफलता क्विड की सफलता पर बेस्ड है। इसके साथ ही उन्होंने बताया निसान भी अपने प्रॉडक्टस के साथ इसी प्लैटफॉर्म के आधार पर आगे बढ़ रही है।

डैटसन पर घोस्न ने कहा कि हम लॉन्ग टर्म स्ट्रैटिजी के साथ काम करते हैं तो हमें तत्काल सफलता के आसार नहीं होते। इसके साथ ही उन्होंने कहा डैटसन कोशिश करेगी और जो अच्छा होगा उसका विश्लेषण करके, संशोधन के सफलता हासिल करेगी। आज भारत में नंबर एक यूरोपियन ब्रैंड बनने की रेनो की सफलता से पहले उसने कई असफलताएं देखीं हैं।

घोस्न ने बताया कि उन्होंने महिंद्रा के साथ शुरुआत की लेकिन वह सफल नहीं हो सके। नए मार्केट में किसी को पहली बार में सफलता नहीं मिलती। सफलता के लिए धैर्य रखना पड़ता है। खासकर भारत जैसे जटिल और प्रतिस्पर्धी मार्केट में उन कंपनियों को जो भारत के बाहर से वहां बिजनस करने जाती हैं, उनके लिए धैर्य रखना बेहद जरूरी है। 

इसे भी पढ़ें:- ये है फेरारी की अब तक की सबसे फुर्तीली और पावरफुल फेरारी 812 सुपरफास्ट

इसे भी पढ़ें:- टाटा की टिगोर 29 मार्च को होगी लॉन्च, ये होगी कीमत

Posted By: Ankit Dubey

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप