नई दिल्ली (जेएनएन)। देश में कई सारी कार कंपनियां मौजूद हैं और सबके नाम भी काफी अलग-अलग होते हैं। लेकिन क्या कभी आपने सोचा है आखिर इन कार कंपनियों के नाम कैसे पड़े, इस रिपोर्ट में हम इसी बारे में बात करने जा रहे हैं और बता रहे हैं वो मजेदार किस्से जिनके आधार पर कारों के नाम पड़े।

Maruti Suzuki
देश की सबसे बड़ी कार कंपनी मारुति सुजुकी का नाम पहले मारुति उद्योग लिमिटेड था। लेकिन 1982 में मारुति उद्योग लिमिटेड और जापान की ऑटोमोबाइल कंपनी सुजुकी के बीच ज्वाइंट वेंचर एग्रीमेंट हुआ जिसके बाद कंपनी का नाम हो गया मारुति सुजुकी इंडिया लिमिटेड।

 

Hyundai
देश की दूसरी सबसे बड़ी कार कंपनी हुंडई का नाम हुंडई इसलिए पड़ा क्योकिं यह कोरियाई शब्द Hanja से निकला है और इस शब्द का मतलब है आधुनिक समय। साल 1947 में चुंग जू-यंग ने एक छोटी कंस्ट्रक्शन फर्म के रूप में हुंडई की शुरुआत की थी।

Honda
पूरी दुनिया में होंडा एक भरोसेमंद नाम है, और इस नाम को कंपनी के फाउंडर सोइकिरो होंडा के नाम पर रखा है। आपको बता दें कि होंडा के फाउंडर सोइकिरो होंडा को ऑटोमोबाइल्स में काफी दिलचस्पी थी। एक मैकेनिक के रूप में उन्होंने गैराज में काम भी किया जहां वो सामान्य कारों को रेसिंग कारों में मॉडिफाइड करते थे।

Ford Motor
दुनिया भर में सेल्स के लिहाज से पांचवीं बड़ी ऑटो मेक फोर्ड मोटर का नाम इसके संस्थापक हेनरी फोर्ड के नाम पर पड़ा. फोर्ड उन चुनिंदा कंपनियों में शामिल है, जो कि 1913 में आई वैश्विक आर्थिक मंदी से खुद को बचाने में कामयाब रही।

Toyota
अपनी शानदार गाड़ियों के लिए पूरी दुनिया में मशहूर टोयोटा का नाम इसके फाउंडर साकिची टोयोडा के नाम पर पड़ा है। शुरुआती दौर में इसका नाम Toyeda था, लेकिन बाद में इसे बदलकर Toyota कर दिया गया नया।

Datsun
डैटसन का नाम पहले इसका नाम DAT था, जो कि Den, Aoyama और Takeuchi के शुरुआती अक्षर हैं। लेकिन बाद में इसे बदलकर DATSON कर दिया। बाद में जब निसान मोटर ने इसे खरीदा तो इसका नाम बदलकर ‘DATSUN’ कर दिया गया और आज तक यही नाम चल रहा है।

 

जीतेगा भारत हारेगा कोरोन

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस