नई दिल्ली (ऑटो डेस्क)। हालिया अधिसूचना में सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने नितन गडकरी की अगुवाई में घोषणा की है कि एक्सप्रेसवे पर वाहनों की स्पीड लिमिट बढ़ाकर 120 किलोमीटर प्रति घंटे कर दी गई है। अधिसूचना में यह भी स्पष्ट कर दिया गया है कि राष्ट्रीय राजमार्गों पर गति सीमा 100 किमी प्रति घंटे के लिए संशोधित कर दी गई है, जबकि शहरी सड़क पर अधिकतम स्पीड 70 किलोमीटर प्रति घंटे कर दी गई है। नया अपडेट में अब एक्सप्रेसवे की स्पीड 20 किलोमीटर प्रति घंटा बढ़ा दी गई है। नई सीमाएं M1 कैटेगरी के वाहनों के लिए हैं, जिनमें 8 सीट से ज्यादा नहीं है।

एक्सप्रेसवे पर टैक्सी की स्पीड बढ़ाकर 80 किमी प्रति घंटे से 100 किमी प्रति घंटे कर दी गई है, जबकि राजमार्गों पर यह 90 किमी प्रति घंटे तक ही सीमित है। शहर की सीमाओं के भीतर टैक्सी की स्पीड 70 किमी प्रति घंटे रख दी गई है। फिलहाल यह स्पष्ट नहीं है कि अगर टैक्सियों की स्पीड गवर्नर्स के हिसाब से बदली जाएगी तो मौजूदा यह 80 किमी प्रति घंटे से 100 किमी प्रति घंटे तक बढ़ा दी जाएगी।

इस बीच M2 और M3 कैटेगरीज में वाहन जो कमर्शियल और पैसेंजर कार्गो व्हीकल्स में शामिल हैं की एक्सप्रेसवे पर स्पीड लिमिट बढ़ाकर 100 किमी प्रति घंटा, हाइवे पर 90 किमी प्रति घंटा और शहरों में 60 किमी प्रति घंटा कर दी गई है। टू-व्हीलर्स की एक्सप्रेसवे और हाइवे पर स्पीड लिमिट 80 किमी प्रति घंटा है, जबकि शहर की गति 40 किमी प्रति घंटे से बढ़ाकर 60 किमी प्रति घंटे तक सीमित कर दी गई है। 

By Ankit Dubey