नई दिल्ली, ऑटो डेस्क। Traffic Challan (ट्रैफिक चालान) ने इन दिनों लोगों के होश उड़ा दिए हैं। हाल ही में Traffic Police (टैफिक पुलिस) की तरफ से एक ट्रक मालिक का 6.53 लाख रुपये का ट्रैफिक चालान (Traffic Fine) काटा गया है। दरअसल 1 सितंबर से पूरे देशभर में New Motor Vehicles Act लागू हो गया है, जिसके बाद Traffic Rules (ट्रैफिक नियमों) को तोड़ने पर लोगों को 10 गुना तक का जुर्माना (Traffic Penalties) भरना पड़ रहा है। आज हम आपको भारत के चार ऐसे ट्रैफिक नियमों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिनके बारे में बहुत कम लोगों को ही पता है। डालते हैं एक नजर,

1) 4-साल से बड़े बच्चे को भी पहनना है हेलमेट

Motor Vehicles Act के मुताबिक अगर चार साल से बड़ा बच्चा हेल्मेट नहीं पहने हुए है, तो उसके माता-पिता को जुर्माना भरना पड़ सकता है। दरअसल Motor Vehicles Act के मुताबिक यह बड़े (वयस्क) व्यक्ति की जिम्मेदारी है कि उसके साथ यात्रा कर रहा बच्चा सही अवस्था में बैठा हो। यानी अगर आप आपकी बाइक पर बैठा बच्चा सही तरह से सुरक्षित नहीं है, तो आपको 1000 रुपये का चालान भरना पड़ सकता है।

2. सैंडल या चप्पल पहनकर बाइक चलाने पर कटेगा चालान

अगर आप सैंडल या चप्पल पहनकर गियर वाला टू-व्हीलर चलाते हुए पाए गए, तो Traffic Police आपका 1000 रुपये का चालान काट सकती है। यह पुराना नियम है, लेकिन अब इसे सख्ती से लागू किया जा रहा है। दरअसल चप्पल या सैंडल पहनकर गियर बदलने में परेशानी आती है। ऐसे में दुर्घटना की संभावना बढ़ जाती है।

3. बाइक पर लुंगी और बनियान की No Entry

अगर आप लुंगी और बनियान पहनकर बाइक चलाते हुए पाए गए, तो आपका 2000 का चालान कट सकता है। हालांकि, यह नियम पहले भी था, लेकिन New Motor Vehicle Act के लागू होने के बाद अब इसे सख्ती से लागू किया जा रहा है।

4. बच्चे की गलती से माता-पिता को होगी जेल

  • नए Motor Vehicles Act के धारा 199 के मुताबिक,
  • अगर नाबालिग गाड़ी चलाते हुए पाया गया
  • अपने वाहन से किसी भी ट्रैफिक नियम को तोड़ता पाया गया
  • किसी दुर्घटना का कारण बनते हुए पाया गया

इन तीनों ही मामलों में वाहन के मालिक के खिलाफ क्रिमिनल केस चलाने का प्रावधान है। यानी अगर बच्चा इन मामलों में दोषी पाया गया, तो माता-पिता को 25,000 रुपये तक का जुर्माना और 3 साल तक की जेल भी हो सकती है। इसके अलावा गाड़ी का रजिस्ट्रेशन नंबर और लाइसेंस तुरंत रद्द हो जाएगा। हालांकि, अगर माता-पिता तब बच सकते हैं, जब वो साबित कर सकें कि उसकी जानकारी के बगैर उनके वाहन का इस्तेमाल किया गया है।

Posted By: Shridhar Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस