नई दिल्ली, ऑटो डेस्क। भारतीय ऑटो सेक्टर में मंदी की चर्चाएं काफी लंबे समय से चल रही हैं। इतना ही नहीं यह भी माना जा रहा है कि अर्थव्यवस्था में चल रही सुस्ती के कारण कार डिमांड में कमी दर्ज की गई है। मंदी से सिर्फ भारत का ऑटो सेक्टर ही नहीं जूझ रहा, बल्कि एक देश और है जहां कारों की बिक्री में गिरावट देखी जा रही है। कारों की बिक्री में गिरावट ब्रिटेन में भी देखी जा रही है। इतना ही नहीं सितंबर महीने में ब्रिटेन में भी कारों के प्रोडक्शन में भारी कमी दर्ज की गई है।

रॉयटर्स में प्रकाशित खबर के अनुसार ब्रिटेन की सोसाइटी ऑफ मोटर्स एंड ट्रेडर्स (SMMT) का कहना है कि इस साल 9 महीने में करीब 1,22,256 वाहनों का प्रोडक्शन हुआ है, जो पिछले साल की तुलना में करीब 15.6 फीसद कम है। इसके पीछे की बड़ी वैश्विक स्तर पर राजनीतिक और आर्थिक गतिविधि के अलावा कमजोर मांग भी है। इसके अलावा ब्रिटेन में इन दिनों ब्रेक्जिट के मुद्दों को लेकर काफी हलचल पैदा हो रही है, जिसकी वजह से ब्रिटेन में प्रोडक्शन प्रभावित हुआ है।

भारतीय बाजार में भी ऑटोमोबाइल कंपनियों की बिक्री का असर काफी मिलाजुला देखने को मिला, जिसमें सिर्फ मारुति सुजुकी ऐसी देश की सबसे बड़ी कंपनी है जिसकी बिक्री सात महीने बाद बढ़ती हुई देखी गई है। वहीं, बाकी देश की दूसरी कंपनियों की बिक्री में ज्यादा सुधार नहीं देखा गया है। बता दें, टोयोटा, हुंडई, महिंद्रा एंड महिंद्रा की भी पिछले साल इसी महीने की बिक्री के मुकाबले अक्टूबर 2019 में बिक्री बढ़ी नहीं, बल्कि कम ही रही है। इसके अलावा टाटा मोटर्स और होंडा जैसी कार कंपनियों के लिए त्योहारी सीजन का कोई असर नहीं देखा गया है। कुल मिलाकर पूरे ऑटो सेक्टर की बिक्री उम्मीद की एक किरण जरूर दिखाता है, लेकिन अभी भी इसका ऊभरने के दिन धुंधले दिखाई दे रहे हैं।

ये भी पढ़ें:

Volkswagen Polo और Vento की बिक्री में हुई 19% की बढ़ोतरी

नहीं बिक रही Honda की कारें, त्योहारी सीजन के बावजूद आई बिक्री में भारी गिरावट

Posted By: Ankit Dubey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस