नई दिल्ली (ऑटो डेस्क)। अगले साल अप्रैल से भारत में 125 cc और इससे ज्यादा पावर इंजन के सभी टू-व्हीलर्स में एंटी-लॉक ब्रेक्स सिस्टम (ABS) जरूरी हो जाएगा। ग्लोबल NCAP के मुताबिक, ABS को सभी टू-व्हीलर्स के लिए अनिवार्य किया जाना चाहिए। इसका मतलब यह है कि अप्रैल 2019 के बाद 125 cc से ज्यादा इंजन वाले सभी नए और पुराने टू-व्हीलर्स में ABS होना अनिवार्य होगा। वहीं इससे कम पावर के इंजन वाले टू-व्हीलर्स में कंबाइंड ब्रेकिंग सिस्टम (CBS) होना जरूरी है।

मिनिस्ट्री ऑफ रोड ट्रांसपोर्ट एंड हाइवेज के मौजूदा नियमों के मुताबिक, अप्रैल 2018 के बाद लॉन्च होने वाले सभी 125 cc और इससे अधिक इंजन वाले नए टू-व्हीलर्स में ABS होना अनिवार्य है। वहीं 125 cc से कम इंजन वाले टू-व्हीलर्स में कंबाइंड ब्रेकिंग सिस्टम (CBS) होना अनिवार्य है।

कैसे काम करता है ABS

ABS का काम बड़ा आसान है। यह कार और बाइक दोनों में लग सकता है। इसका काम अचानक से ब्रेक लगाने की स्थिति में पहियो को लॉक होने से बचाने के साथ-साथ वाहन का बैलेंस बनाए रखना भी होता है। दिखने में यह डिस्क ब्रेक की तरह होता है। ABS में कुछ सेंसर लगे होते हैं जो वाहन के पहियों की स्पीड को पता लगाते हैं की वे किस रेट से धीमे हो रहे हैं। जैसे-जैसे वाहन की स्पीड कम होती है ABS उसी हिसाब से ब्रेक को कंट्रोल करता है। इसके अलावा ABS की मदद से फिसलन वाली सतह पर वाहन को रोकने की दूरी को कम किया जा सकता है।

कैसे काम करता है CBS

CBS का काम भी ब्रेकिंग सिस्टम से जुड़ा है। यह सिस्टम लगा होने पर रियर ब्रेक लीवर को दबाने पर टू-व्हीलर के दोनों ब्रेक्स काम करना शुरू कर देते हैं। ऐस स्थिति में एक ब्रेक लगने पर टू-व्हीलर के फिसलने का खतरा कम हो जाता है।

यह भी पढ़ें-

2023 तक भारत में कारों के लिए अनिवार्य हो जाएंगे ये सेफ्टी फीचर्स

Posted By: Pramod Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप