नई दिल्ली, अंकित दुबे। Tata Harrier कंपनी की पहली ऐसी एसयूवी थी जिसे Tata Motors ने Impact 2.0 डिजाइन के तर्ज पर उतारा और इस डिजाइन के साथ यह भारतीय बाजार में सबसे आकर्षक एसयूवी में से एक बन गई। हालांकि, Tata Harrier को कंपनी ने बेहतर डिजाइन के साथ उतार तो दिया था, लेकिन अपने सेगमेंट में कई फीचर्स के मुकाबले काफी पिछड़ती नजर आ रही थी। खैर, ग्राहकों की इस सेगमेंट में बढ़ती डिमांड को देखते हुए Tata Harrier को कंपनी ने BS6 मानकों के अनुरूप तो उतारा ही, साथ ही इसमें ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन समेत कई ऐसे फीचर्स शामिल कर दिए हैं, जिनकी शिकायत हमें पुराने वेरिएंट में देखने को मिल रही थी। Tata की ओर से हमें इस गाड़ी की टेस्ट ड्राइव के लिए बुलाया गया और पुणे से पंचगणी तक करीब 105 किलोमीटर तक हमने ऑटोमैटिक वेरिएंट चलाया और वापसी में हमने BS6 मैनुअल की टेस्ट ड्राइव की, जिसके बाद हम अब नई Tata Harrier के बारे में क्या कुछ सोचते हैं, वो सब आपको बताने जा रहे हैं।

लुक्स और कलर वेरिएंट

Tata Harrier में इस बार एक फ्रेश लुक के साथ नया डुअल-टोन Calypso Red पेंट कलर स्कीम शामिल कर दी है, जिसमें आपको पियानो ब्लैक फिनिश की रूफ मिलेगी। इतना ही नहीं, कंपनी ने पूरी बॉडी कलर को अपडेट कर दिया है और अब यह 5 कलर विकल्प Cocoa Sparkle, Tolesto Grey, Black Dark Edition, Orcus White और Calypso Red रेड में आती है। डिजाइन के मामले में कंपनी ने कोई बदलाव नहीं किया है, लेकिन अब फ्रंट से लेकर साइड और रियर तक आपको इसमें क्रोम का काफी इस्तेमाल देखने को मिलेगा, जो कि Tata का इस एसयूवी को लेकर एक एक्सेसरीज पैकेज है। हेडलैंप्स और DRLs के अलावा ग्रिल पर आपको क्रोम का इस्तेमाल देखने को मिलेगा। वहीं, Harrier के साइड विंडो और बॉडी क्लैडिंग पर भी क्रोम लाइन देखने को मिलेंगी। रियर में भी आपको एग्जॉस्ट मफ्लर पर क्रोम का इस्तेमाल देखने को मिलेगा, जो पूरी तरह इस गाड़ी को एक प्रीमियम और स्पोर्टी फील देता है। इसके साथ ही Tata Harrier को बेहतर लुक देने के लिए कंपनी ने 17-इंच के नए डायमंड कट एलॉय व्हील्स दिए हैं, जो इस गाड़ी को काफी अच्छा लुक देते हैं और सड़कों पर भी चलती हुई यह गाड़ी साइड से काफी प्यारी लगती है।

इंटीरियर फीचर्स में क्या हुआ है बदलाव

Tata Harrier का केबिन में पुराने वेरिएंट जैसा ही है। इसका लेआउट, फिट और फिनिश में आपको किसी तरह का कोई बदलाव देखने को नहीं मिलेगा। हालांकि, कंपनी ने फीचर्स के तौर पर इसके टॉप वेरिएंट में पैनोरामिक सनरूफ और 6-वे पावर एडजस्टेबल ड्राइवर सीट के साथ मैनुअल लम्बर सपोर्ट दिया है। पैनोरामिक सनरूफ की खास बात यह है कि वन-टच क्लोज ओपन के अलावा रेन सेसिंग फीचर के साथ आता है। बारिश होने पर सनरूफ अगर खुला है तो अपने आप बंद हो जाएगा। इतना ही नहीं कंपनी का दावा है कि Harrier अपने सेगमेमंट में सबसे बड़े सनरूफ के साथ आती है।

कंपनी ने इसमें ऑटो-डिमिंग IRVM (इनसाइड रियर व्यू मिरर) के अलावा जो पहले USB सॉकेट की दिक्कत हुआ करती थी, वो अब कंपनी ने थोड़ी बाहर करके ठीक कर दी है। साथ ही आर्मरेस्ट के अंदर भी आपको एक फास्ट चार्ज USB पोर्ट और एक 12V का सॉकेट मिलता है। 8.8 इंच का टचस्क्रीन सिस्टम एप्पल कारप्ले और एंड्रॉयड ऑटो कनेक्टिविटी सिस्टम के साथ आता है। इसमें कंपनी ने ऑटो क्लाइमेट कंट्रोल के अलावा 9-स्पीकर वाला JBL साउंड सिस्टम भी दिया है, जिसका म्यूजिक आउटपुट किसी प्रीमियम ऑडियो सिस्टम से कम नहीं लगता। हालांकि, यहां आपको इस गाड़ी में जो सबसे बड़ी कमी लगेगी वो कनेक्टेड कार टेक्नोलॉजी है, जो कि इस सेगमेंट की दूसरी गाड़ियों में देखने को मिल रही हैं।

इंजन में हुआ सबसे बड़ा बदलाव

Tata Harrier में कंपनी ने फिएट वाला 2.0 लीटर, फोर-सिलेंडर इंजन दिया है जो कि अब BS6 मानकों के अनुरूप है और अब यह पुराने वेरिएंट के मुकाबले 30 PS ज्यादा पावर आउटपुट यानी 170 PS देता है। वहीं, इसका टॉर्क समान पुराने वेरिएंट जितना ही 350 Nm है। यह इंजन 6-स्पीड ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन के साथ आता है जो कि Hyundai से लिया गया है। साथ ही स्टैंडर्ड 6-स्पीड मैनुअल ट्रांसमिशन भी दिया गया है।

ऑटोमैटिक वेरिएंट की परफॉर्मेंस

Harrier के ऑटोमैटिक वेरिएंट की पावर डिलीवरी काफी स्मूथ नजर आती है और इसका ट्रांसमिशन काफी अच्छी तरीके से काम करता है। इतना ही नहीं, मैनुअल वेरिएंट के मुकाबले ऑटोमैटिक वेरिएंट को चलाने में हमें सबसे ज्यादा मजा आया और यह आपको एक बेहतर पावर के साथ गियर शिफ्टिंग में भी किसी तरह को कोई दिक्कत नहीं देती है। मिड-रेंज में हाईवे पर इसकी पावर जबरदस्त देखने को मिलती है। वहीं, 3500 rpm से ऊपर यह काफी आक्रामक नजर आती है। ट्रांसमिशन में आपको मैनुअल मोड भी मिलता है जिसे शिफ्ट करते ही गाड़ी में स्पोर्ट मोड अपने आप एक्टिवेट हो जाता है और यह गाड़ी रफ्तार भरने के लिए तैयार हो जाती है।

ऑटोमैटिक वेरिएंट में देखा जाए तो आपको करीब 8 ड्राइविंग मोड्स मिलते हैं, जिसमें आपको 3 ड्राइव मोड्स (सिटी, ईको, स्पोर्ट) और 3 टेर्रेन रिस्पांस मोड्स (नॉर्मल, रफ और वेट) के अलावा एक ऑटोमैटिक और एक मैनुअल के साथ स्पोर्ट मोड देखने को मिलता है। सस्पेंशन भी काफी बेहतर तरीके से काम करते हैं और स्टीयरिंग व्हील में भी काफी सुधार देखने को मिला है। टर्निंग के दौरान भी यह काफी अनुकूल रहता है, जबकि पहले यह आपको थोड़ा कठोर देखने को मिलता था। तेज रफ्तार में भी अगर आप अपनी डायरेक्शन बदलते हैं तो Harrier में आपका आत्मविश्वास बना रहता है और किसी तरह कोई समस्या आपके सामने नहीं आती। कुल मिलाकर ऑटोमैटिक वेरिएंट की परफॉर्मेंस काफी बेहतर है और इसका ट्रांसमिशन काफी प्रभावशाली लगता और कहीं भी यह गाड़ी आपको झटके जैसा कुछ फील नहीं कराती।

मैनुअल वेरिएंट की परफॉर्मेंस

Harrier का पुराना वेरिएंट भी 6-स्पीड मैनुअल ट्रांसमिशन के साथ आता था और अब नए वेरिएंट की तुलना अगर पुराने वेरिएंट से करें तो इसका क्लच थोड़ा हल्का नजर आता है। साथ ही आपको स्टीयरिंग भी हल्का देखने को मिलेगा और इसके गियर शिफ्टिंग में पहले थोड़ी बहुत शिकायत रहती थी, जब ट्रैफिक के दौरान इसे चलाते थे, लेकिन अब मुझे लगता है कंपनी ने इसके मैनुअल ट्रांसमिशन में भी सुधार किया है। शिफ्टिंग के दौरान आपको कहीं भी झटके जैसा महसूस नहीं होता है और तेज रफ्तार पर आपको इसकी पावर काफी रोमांचक तरीके से देखने को मिलती है। आपको साफ लगता है कि आप किसी दमदार गाड़ी की ड्राइव कर रहे हैं। ब्रेकिंग में भी थोड़ा सुधार देखने को मिलता है, हालांकि हमें लगता है कंपनी को इसके टॉप वेरिएंट में चारों पहियों पर डिस्क ब्रेक्स देने की जरूरत थी। स्टैंडर्ड सेफ्टी फीचर्स के तौर पर कंपनी ने इसमें ट्रैक्शन कंट्रोल, रोलओवर मिटिगेशन, इलेक्ट्रॉनिक स्टेबिलिटी प्रोग्राम और कॉर्नर स्टेबिलिटी कंट्रोल दिए हैं।

NVH स्तर में किया सबसे बड़ा सुधार

BS4 Tata Harrier में सबसे बड़ी दिक्कत यही देखने को मिलती थी कि इसका इंजन शुरू होते ही काफी शोर करने लगता है। इतना ही नहीं तेज रफ्तार में भी यह अंदर बैठे यात्रियों को भी काफी परेशान करता था। हालांकि, अब नए BS6 वेरिएंट के साथ कंपनी ने नई Harrier में इंजन और ट्रांसमिशन के अलावा तीसरा बड़ा बदलाव इसका NVH (शोर, कंपन, और कठोरता) स्तर पर किया है। अब हाईवे आप चाहें मैनुअल वेरिएंट चलाएं या फिर ऑटोमैटिक वेरिएंट आपको ऐसा लगेगा ही नहीं कि आप डीजल इंजन वाली गाड़ी चला रहे हैं। हर वक्त आपको यह ऐसा ही महसूस कराएगी कि आप किसी पेट्रोल कार की सवारी कर रहे हैं। BS6 Tata Harrier कुल मिलाकर अब बेहतर NVH स्तर, दमदार इंजन और एक प्रभावशाली ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन के साथ आती है।

हमारा फैसला

Tata Harrier ऑटोमैटिक सिर्फ तीन वेरिएंट्स XMA, XZA और टॉप रेंज XZA+ में उपलब्ध है, जिनकी शुरुआती कीमत 16.25 लाख रुपये है। वहीं, इसके मैनुअल वेरिएंट की शुरुआती कीमत 13.69 लाख रुपये है, जो कि ऑटोमैटिक टॉप वेरिएंट 20.25 लाख रुपये तक जाती है। दमदार BS6 इंजन के साथ अब इसमें आपको एक ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन भी मिलता है, जिसके चलते यह अब ग्राहकों को काफी पसंद आने वाली है। इसकी ड्राइविंग क्षमता और NVH स्तर में सुधार के चलते SUVs पसंद करने वाले युवाओं को नई Harrier काफी पसंद आने वाली है। हालांकि, इसमें सेगमेंट की दूसरी गाड़ियों की तरह कनेक्टेड टेक्लॉजी और वायरलेस चार्जिंग जैसे फीचर्स की कमी महसूस होती है। अगर आप इन गैजेट्स को छोड़ दें और सिर्फ ड्राइविंग और इंजन की पावर क्षमता के बारे में सोचकर एक SUV की तलाश कर रहे हैं तो नई Tata Harrier के बारे में आप सोच विचार कर सकते हैं। खैर, हम तो यही कहेंगे एक बार इसकी टेस्ट ड्राइव जरूर लेकर देखें शायद आपका मन बदल जाए।

Posted By: Ankit Dubey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस