हैदराबाद (बनी कालरा)। टाटा मोटर्स अपनी नई SUV हेक्सा के साथ भारतीय कार बाजार में दस्तक देने के लिए तैयार है। टाटा ने इसे भारत के साथ-साथ अमेरीका, फ्रांस और यूके जैसे देशों की कंपनियों के साथ मिलकर इसके कई मेकेनिज़्म को डेवलप किया है। नई हेक्सा की फर्स्ट ड्राइव रिव्यु रिपोर्ट हम आपके लिए लेकर आये हैं। आईये जानते हैं क्या नई हेक्सा का जादू ग्राहकों के दिलों पर चलेगा? क्या है नई हेक्सा की खूबियां और कमियां? और क्या इसे खरीदना होगा वाकई फायदे का सौदा?

लुक्स-डिजाइन:
पहली ही नज़र में हेक्सा इम्प्रेस करती है इसमें इंटरनेशनल SUV जैसा फील नजर आता है। इसका फ्रंट लुक्स मस्कुलर स्टाइल में है। वहीं इसका बोनट, टू-टोन बम्पर, स्वैप्ट-बेक प्रोजेक्टर हैडलैंप्स और चौड़ी ग्रिल काफी बेहतर नजर आती है जबकि फॉग लैंप्स को एक नया डिजाइन देने की कोशिश की गयी है।

साइड से देखें तो यहां से यह MPV जैसी दिखाई देती है। जबकि इसके आगे और पीछे का हिस्सा SUV शेप वाला दिया है। इसके अलावा हेक्सा में मिलेंगे 19 इंच के एलॉय व्हील्स।

हेक्सा के रियर लुक्स की बात करें तो यहां पर टाटा मोटर्स की तारीफ करनी होगी, क्योकि यहां से देखने पर हेक्सा ज्यादा आकर्षक नजर आती है। स्पोर्टी होने के साथ-साथ डिजाइन साफ-सुथरा है।

इतना ही नहीं हेक्सा में आपको रूफ रेल भी मिलेगी इससे यह ज्यादा स्पोर्टी फील देती है। पूरी गाड़ी में क्रोम का इस्तेमाल किया गया है, वैसे भी यह काफी चलन में भी है। तो एक्सटीरियर के मामले में हेक्सा पसंद आई साथ ही टाटा ने यहां अच्छी क्वालिटी यूज़ की है।



इंटीरियर-कैबिन स्पेस
यह पहली बार है जब टाटा की किसी SUV के कैबिन ने प्रभावित किया है। बेहतर क्वालिटी, शानदार लेओउट, फिट और फिनिश, इन सभी सेक्शन पर हेक्सा अपनी छाप छोड़ने में कामयाब रही है। कैबिन साफ़-सुथरा है और ब्लैक कलर थीम में इसे बनाया है और इसीलिए हेक्सा ज्यादा प्रीमियम और महंगी SUV लगती है।

इसके डैशबोर्ड का डिजाइन काफी आकर्षक है वही कूल्ड ग्लोव बॉक्स की सुविधा आपको मिलेगी जिसमें आप अपने ड्रिंक्स को ठंडा रख सकते है।

इसके अलावा इसमें हरमन का 10 स्पीकर्स वाला 5 इंच का टचस्क्रीन इंफोटेंमेंट सिस्टम दिया गया है और स्टीयरिंग पर म्यूजिक कंट्रोल कण्ट्रोल स्विच भी दिए गए हैं। डिस्प्ले के कलर को आप अपने मूड के चेंज भी कर सकते है। इसके साथ ही इसमें रिवर्स पार्किंग कैमरा और नेविगेशन जैसे फीचर्स को शामिल किया है। लेकिन इस नेविगेशन के लिए आपको एक स्मार्टफोन की भी जरूरत पड़ेगी।

हेक्सा की सीट्स स्पोर्टी होने के साथ-साथ आरामदायक भी हैं जो बॉडी को फुल सपोर्ट देती हैं। अगर आप लम्बा सफर तय करते है तो आपको शायद ही कोई दिक्कत आये, वैसे मैंने तो हेक्सा से करीब 190 किलोमीटर से ज्यादा की दूरी तय की वो भी बिना परेशानी के।

स्पेस की बात करें तो हेक्सा 6 और 7 सीट्स ऑप्शन में हैं, पहली और दूसरी रो में जगह अच्छी है वही हेड रूम और लेगरूम के लिए भी जगह की कोई किल्लत नहीं मिलेगी अगर आपकी हाईट 6 फिट है तब आपको कोई प्रोब्लम शायद ही मिले।

लेकिन तीसरी रो में केवल 2 छोटे बच्चों के लिए ही जगह बनाई गई है जो हमारे हिसाब से ठीक है, लेकिन किसी वयस्क को बिठाया जाए तो पैरों के लिए पर्याप्त जगह का अभाव होगा।

वही बूट स्पेस के मामले में भी हेक्सा निराश नहीं करती और इसकी रियर सीट को अगर फोल्ड कर दिया जाए तो करीब 671 लीटर का स्पेस बनाया जा है।

इंजन:
हेक्सा के इंजन की बात करें तो इसमें 2.2 लीटर का वेरीकोर 400 टर्बो-डीज़ल इंजन मिलेगा। यह इंजन 156 पीएस की पॉवर और 400 एनएम का टॉर्क देता है। इसके साथ ही यह 6 स्पीड मैनुअल और 6 स्पीड ऑटोमैटिक गियरबॉक्स के साथ है। हेक्सा को मैंने हर तरह के रास्तों पर चलाया आइये जानते है कैसी रही इसकी परफॉरमेंस

परफॉरमेंस:
हेक्सा के साथ करीब 190 किलोमीटर से ज्यादा की दूरी मैंने तय की पहली बार मुझे ऑटोमैटिक हेक्सा मिली। इस गाड़ी की हैंडलिंग कमाल की है ड्राइविंग के दौरान कैबिन में शोर न के बराबर रहा। वही 0 से 140 की रफ़्तार पकड़ने में इसे बिलकुल भी टाइम नहीं लगता जबकि मैं इसे 190 किलोमीटर की रफ़्तार देने में कामयाब रहा (अंडर टेस्टिंग: कृपया आप इतनी रफ़्तार से टेस्ट न करें) तेज़ रफ़्तार पर लेन बदलने पर भी इसकी स्टेबिलिटी बेहतर रहती है वही इसमें बॉडीरोल की शिकायत महसूस नहीं, इसके आलावा हेक्सा का NVH लेवल बेहतर रहा इसका। इसका ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन निराश होने का मौका बिलकुल भी नहीं देता औ यह इसकी एक बड़ी USP साबित हो सकता है। रोड पर हेक्सा की विजिबिलिटी काफी अच्छी है। जबकि खराब रास्तों पर इसके सस्पेंशन काफी मददगार साबित हुए। इतना ही नहीं ऊंचाई वाली जगहों पर भी यह अपनी जगह नहीं छोड़ती। यानी सिटी, हाईवे और खराब रास्तों पर यह आसानी से निकाल जाती है।

इसके बाद मौका मिला हेक्सा के मैन्युअल वर्जन को चलाने का। सब-कुछ वैसा ही रहा जैसा इसके ऑटोमैटिक को चालकर महसूस हुआ। लेकिन इतना कुछ अच्छा करने के बाद टाटा इसके मैन्युअल गियर बॉक्स को बेहतर नहीं कर पाई और यहीं पर निराश हुई, जी हां हेक्सा का मैन्युअल गियरबॉक्स उम्मीद पर खरा नहीं उतरा और इसलिए जितनी अच्छी परफॉरमेंस इसके ऑटोमैटिक वर्जन की है उतनी ही खराब मैन्युअल गियरबॉक्स की है।

गियर शिफ्टिंग काफी हार्ड और रफ है जोकि नहीं होनी चाइये थी इतना ही नहीं क्लच वाली साइड पर लेफ्ट पैर के लिए जगह की किल्लत है जो निराश करती है। वैसे भारत में इसके लॉन्च होने में कुछ महीने का टाइम है अभी ऐसे में टाटा को इस सेक्शन पर काम करना बहुत जरूरी है। हेक्सा की माइलेज 11-12 kmpl आ सकती है।

मजेदार ड्राइिवंग मोड

नई हेक्सा में ड्राइव मोड की सुविधा दी गयी है जिसमें ऑटो, कंफर्ट, डाइनेमिक और रफ़ रोड मोड मिलेंगे आप रोड की कंडीशन के हिसाब से इसे सेट कर सकते है और इसका फील आपको जरूर पसंद आएगा। हेक्सा में एबीएस, ईबीडी, हिल होल्ड असिस्ट, हिल डिसेंट कंट्रोल भी दिया है जिसकी मदद से आप ऑफ़रोडिंग का भी मज़ा ले सकते हैं।


क्या है नतीजा
अगर आप सोच रहे है की यह आरिया जैसी है लेकिन मैं कहूँगा बिलकुल नहीं...हेक्सा के रूप में टाटा ने एक अच्छी SUV तैयार की है। इसमें 6 और 7 लोगों के बैठने की जगह है। साथ ही ज्यादा स्पेस और सामान रखने के लिए भी जगह उपलब्ध है। सिटी ड्राइव के साथ ऑफरोडिंग का मज़ा आप हेक्सा को चलाकर ले सकते है। ऑटोमैटिक वर्जन इसका प्लस पॉइंट है लेकिन इसका मैन्युअल वर्जन काफी निराश करता है। हेक्सा का सीधा मुकाबला टोयोटा की इनोवा क्रिस्टा और महिन्द्रा की एक्सयूवी-500 से होगा। टाटा इसे मिड जनवरी 2017 में लॉन्च करेगी और इसकी संभावित कीमत 11 से 15 लाख रूपए हो सकती है। टाटा मोटर्स हेक्सा के साथ अगर एक लम्बी पारी खेलना चाहती है तो इसकी कीमत पर दाव खेलना ही पड़ेगा साथ ही जो कमज़ोर पहलू इस गाड़ी में है उन पर काम करना बेहद जरूरी भी है।

क्या कहते है ऑटो एक्सपर्ट
देश के जाने माने ऑटो एक्सपर्ट टूटू धवन के अनुसार हेक्सा काफी अच्छी SUV है इसमें कई अच्छे फीचर्स तो हैं ही साथ में क्वालिटी और लुक्स इम्प्रेस करता है। वही हेक्सा का ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन लाजवाब है लेकिन मैन्युअल गियरबॉक्स उतना ही निराश भी करता है।

टाटा हेक्सा की खूबियां

  • ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन
  • लुक्स-स्पेस
  • कैबिन
  • क्वालिटी
  • फीचर्स
  • परफॉरमेंस (AT)
  • NVH कण्ट्रोल

टाटा हेक्सा की कमियां

  • मैन्युअल गियरबॉक्स
  • माइलेज
  • स्मार्ट कीलेस एंट्री नहीं है
  • मैन्युअल वर्जन में ड्राईवर साइड लेफ्ट पैर के लिए जगह की कमी

यह भी देखें: गाड़ियों पर मिल रहे हैं लाखों के डिस्काउंट

 

यह भी देखें: अगर 5 लाख है आपका बजट तो इस दिवाली घर ले आईए ये पांच ख़ास कारें

 

ऑटो सेक्टर की बड़ी ख़बरों के लिए यहां क्लिक करें

By Bani Kalra