नई दिल्ली, ऑटो डेस्क। कार खरीदने के बाद उसकी देखरेख करना और समय पर सर्विसिंग करवाना वाहन मालिक की जिम्मेदारी हो जाती है। अधिकतर लोग अपनी गाड़ी को रोजाना साफ तो कर देते हैं, लेकिन उनकी नजर गाड़ी के इंजन की तरफ नहीं पड़ती। लोग अक्सर इंजन में आने वाली समस्या पर ध्यान नहीं देते हैं जिस वजह से इंजन 'ओवरीट' होने लगता है। कई बार तो इंजन इतना ज्यादा गर्म हो जाता है कि हादसा होने तक की आशंका बन जाती है। इस खबर के माध्यम से आपको बताने जा रहे हैं किन वजहों से होता है ओवरहीट और कैसे करें बचाव।

कूलेंट का रखें ध्यान

आप में से कई लोगों ने इसका नाम पहली बार सुना होगा, बता दें कि कुलेंट का काम होता है कि गाड़ी को ओवरहिटिंग से बचाना और गाड़ी को ठंडा रखना। कूलेंट हरे रंग का एक तरह का ऑयल होता है, जिसका वाहन मालिक को खास ख्याल रखना चाहिए, यदि आपकी कार का कूलेंट लीकेज प्रॉब्लम हो या फिर कूलेंट खराब गुणवत्ता का हो तो इससे इंजन ठंडा नहीं हो पाता है, जिस वजह से इंजन अधिक गर्म हो जाता है। इसके अलावा इस बात का भी ध्यान रखें कि कूलेंट और पानी बराबर मात्रा में हो। अगर आपको मात्रा का अनुमान न हो पाए तो आप या तो मैन्युअल में पढ़कर गाड़ी में कूलेंट डालें या किसी मैकेनिक से इसरी फिलिंग करवा लें।

ब्लॉकेज की कर दें सफाई

अगर कार के रेडिएटर में कूलेंट भी पर्याप्त मात्रा में हैं, फिर भी इंजन जरूरत से ज्यादा गर्म हो रहा है, तो आपको कूलेंट की नली को चेक करना चाहिए। ऐसा भी संभव है कि सड़क से उठने वाली धूल, गंदगी या गर्द भी कूलेंट वाले हिस्से में पहुंच जाती है। जिसके चलते हाउसेस ब्लॉक हो जाते हैं। ऐसे में आप कूलेंट को फ्लश करें और पाइप की ठीक ढंग से सफाई कर दोबारा कूलेंट डलवाएं आपकी समस्या खत्म हो जाएगी। अगर अब भी ऐसा न हो, तो तुरंत कार की जांच मैकेनिक से करवा लें।

समझ न आने पर मैकेनिक की लें मदद

गाड़ी चलेगी तो इंजन गर्म होगा ही, लेकिन अगर इंजन जरूरत से ज्यादा गर्म हो, तो कार के रेडिएटर, वाटर पंप, होज, हेड गैसकेट या थर्मोस्टेट हाउसिंग में कोई लीक हो सकता है, जिस वजह से आपकी कार का इंजन ठीक सही तरह ठंडा नहीं हो पाएगा। यदि आपकी कार में ऐसी कोई समस्या आए तो बेहतर होगा आप कार की जांच मैकेनिक से जरूर करवा लें।

Edited By: Atul Yadav