आप यहां है:होमअध्यात्म

चैत्र नवरात्र के प्रथम दिन शैलपुत्री की होगी पूजा

| Tue, 28 Mar 2017 09:25 AM (IST)

चैत्र शुक्ल पक्ष के नवरात्रों का आरंभ वर्ष 28 मार्च 2017 के दिन से हो रहा है। इसी दिन से हिन्दू नवसंवत्सर का आरंभ भी होता है। चैत्र मास के नवरात्र को ‘वार्षिक नवरात्र’कहा जाता है। हिन्दू धर्म में माता दुर्गा को आदिशक्ति कहा जाता है। देवी दुर्गा के नौ रूप होते हैं। दुर्गाजी पहले स्वरूप में ‘शैलपुत्री’ के नाम से जानी जाती हैं। मां शैलपुत्री पहले स्वरूप में मां पर्वतराज हिमालय की पुत्री पार्वती के रूप में विराजमान हैं। इन्हें समस्त वन्य जीव-जंतुओं की रक्षक माना जाता है। नंदी नामक वृषभ पर सवार शैलपुत्री के दाहिने हाथ में त्रिशुल और बांए हाथ में कमल का पुष्प है। नवरात्रि के प्रथम दिन शैलपुत्री की पूजा की जाती है। इनकी साधना और पूजा से साधकों के समस्त दुर्गुणों, अज्ञान और पापों का नाश होता है।