PreviousNext

चुनाव खर्च का हिसाब न देने वालों को आखिरी मौका

Publish Date:Fri, 19 May 2017 03:07 PM (IST) | Updated Date:Sat, 20 May 2017 04:01 AM (IST)
चुनाव खर्च का हिसाब न देने वालों को आखिरी मौकाचुनाव खर्च का हिसाब न देने वालों को आखिरी मौका
विधानसभा चुनाव खर्च का हिसाब न देने वाले 11 प्रत्याशियों को जिलाधिकारी ने अंतिम अवसर दिया है। ये प्रत्याशी 31 मई तक अपना हिसाब निर्वाचन व्यय जमा करा सकते हैं।

देहरादून, [जेएनएन]: अतिरिक्त समय देने के बाद भी विधानसभा चुनाव खर्च का हिसाब न देने वाले 11 प्रत्याशियों को जिलाधिकारी ने अंतिम अवसर दिया है। ये प्रत्याशी 31 मई तक अपना हिसाब निर्वाचन व्यय के नोडल अधिकारी/मुख्य कोषाधिकारी कार्यालय में हिसाब के मूल अभिलेख जमा करा सकते हैं।

गुरुवार को जारी बयान में जिलाधिकारी एसए मुरुगेशन ने कहा कि नियमानुसार चुनाव परिणाम घोषित होने के 30 दिन के भीतर हर प्रत्याशी को निर्वाचन व्यय का हिसाब देना होता है। इसके बाद भी कई प्रत्याशी हिसाब जमा नहीं पाए तो उन्हें अतिरिक्त समय दिया गया। गंभीर यह कि अतिरिक्त समय देने के बाद भी 11 प्रत्याशी अब तक हिसाब नहीं दे पाए हैं। न ही वे हिसाब न देने के पीछे कोई ठोस कारण बता पाए हैं। अब अंतिम तिथि तक जो भी प्रत्याशी निर्वाचन खर्च का हिसाब जमा नहीं करा पाएंगे, उनका नाम चुनाव लडऩे के लिए अयोग्य घोषित करने को बिना किसी पूर्वाग्रह के मुख्य निर्वाचन अधिकारी व भारत निर्वाचन आयोग के सचिव को भेज दिए जाएंगे। 

इन्होंने नहीं दिया हिसाब

विस क्षेत्र----------------प्रत्याशी

विकासनगर-----------भास्कर चुग, अशोक सिंह, दिनेश कुमार शर्मा, राजीव कुमार

सहसपुर-----------------मंजू सिंह, गौरव पुंडीर

धर्मपुर-----------------रूपेंद्र कुमार तोमर

रायपुर-----------------राजेंद्र प्रसाद गैरोला, रुखसार मंसूरी

डोईवाला-----------------प्रकाश चंद तिवारी

ऋषिकेश-----------------राजेंद्र प्रसाद गैरोला

 यह भी पढ़ें: 11 प्रत्याशियों ने नहीं दिया चुनाव खर्च का ब्योरा, रिपोर्ट भेजी

यह भी पढ़ें: बोले कोश्यारी, यूपी के अधिकारियों को छोड़नी होगी हठधर्मिता

यह भी पढ़ें: बोले उच्च शिक्षा मंत्री, प्रदेश में एक समान होगा फीस स्ट्रक्चर

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:Last chance for those who did not submitted election expenditure(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

उत्तराखंड में सोशल इंजीनियरिंग पर कांग्रेस का फोकसअब राज्य को बचाने के लिए उक्रांद करेगा आंदोलनः दिवाकर
यह भी देखें