PreviousNext

क्या अप्रासंगिक हो गया गांधी दर्शन ..

Publish Date:Wed, 02 Oct 2013 07:13 PM (IST) | Updated Date:Wed, 02 Oct 2013 07:14 PM (IST)

कानपुर, शिक्षा संवाददाता: सवाल है कि क्या स्वतंत्रता आंदोलन के महानायक राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का दर्शन अप्रासंगिक हो गया है? जवाब है नहीं। तो फिर गांधी जयंती पर स्कूल कालेजों में सन्नाटा क्यों बढ़ता जा रहा है? बच्चों से बापू के बारे में जानकारियां पाने को अवसर क्यों छिन रहे हैं?

सच्चाई तो यही है कि अब स्कूल कालेजों में गांधी जयंती पर पहले जैसा उत्साह नहीं दिखता। प्रदेश शासन की ओर से भी जयंती पर दोहरी व्यवस्था दिखी। वार्षिक छुंिट्टयों की सूची में दो अक्टूबर को छुंट्टी दर्ज है वहीं शासन ने शिक्षण संस्थानों में गांधी जयंती मनाने के निर्देश भी दिए थे। सुविधा छुंट्टी में ज्यादा थी सो ज्यादातर कालेजों ने छुंट्टी मना ली। कुछ प्रधानाचार्यो ने गांधी जी की प्रतिमा पर माल्यार्पण जरूर किया। निजी स्कूलों में छिटपुट कार्यक्रम हुए तो ज्यादातर पब्लिक स्कूलों ने एक दिन पहले ही गांधी जयंती मना कर छुंट्टी कर दी। प्रभात फेरियां व संगोष्ठियां भी नहीं दिखीं। खेलकूद व प्रतियोगिताओं की औपचारिकता भी ढंग पूरी नहीं की गई। डिग्री कालेजों में भी छुंट्टी रही। केंद्रीय विद्यालयों में भी सन्नाटा दिखा क्योंकि इन संस्थानों में घोषित अवकाश के कारण कार्यक्रमों की रूपरेखा नहीं बन पाई।

परिषदीय स्कूलों ने तोड़ा सन्नाटा

बेसिक शिक्षा परिषद के स्कूल खुले रहे। शासन ने गांधी जयंती पर वाद विवाद प्रतियोगिता, रैली, निबंध प्रतियोगिता, व सांस्कृतिक कार्यक्रम कराने की रूपरेखा जारी की थी परंतु ज्यादातर स्कूलों ने औपचारिकता निभाई। तमाम स्कूलों में गांधी जी की तस्वीर तक नहीं रही।

------

गांधी जयंती पर गजटेड छुंट्टी घोषित है इसलिए एक दिन पहले जयंती मना कर बच्चों को राष्ट्रपिता के बारे में बताया। गुरुवार को भी कार्यक्रम होंगे।

- डॉ. राकेश चतुर्वेदी, प्रधानाचार्य केंद्रीय विद्यालय अरमापुर

----

गांधी जयंती पर कालेजों में रामधुन गाने, गांधी जी के जीवन दर्शन के बारे में बताने को कहा गया था। देखा जाएगा कि कालेजों ने छुंट्टी कैसे रखी?

- कोमल यादव, जिला विद्यालय निरीक्षक।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
    Web Title:(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

    कमेंट करें

    मां के स्वागत को घर-घर सजेगा दरबारफूलबाग में गूंजेगा नमो मंत्र
    यह भी देखें

    संबंधित ख़बरें