PreviousNextPreviousNext

रुई के निर्यात से 300 करोड़ का झटका

Publish Date:Monday,Sep 23,2013 09:01:53 PM | Updated Date:Tuesday,Sep 24,2013 11:25:17 AM

कानपुर, जागरण प्रतिनिधि : रुई का बढ़ा निर्यात सूबे के होजरी उद्योग पर खतरा बनकर मंडरा रहा है। थोड़े अंतराल में ही तीन सौ करोड़ के झटके से उद्यमियों की कमर टूट चुकी है। प्रदेश के आधा दर्जन शहरों में लघु इकाइयां बंदी की कगार पर पहुंच गईं हैं। शहर में भी अधिकांश उद्यमियों ने कर्मचारियों की छंटनी शुरू कर दी है।

प्रदेश के कानपुर, सहारनपुर, वाराणसी, लखनऊ, गाजियाबाद, झांसी के साथ पूर्वाचल के कुछ जिलों में होजरी की छोटी-बड़ी इकाइयां स्थापित हैं। एक साल पहले तक हर महीने इनका टर्नओवर करीब 500 करोड़ रुपये था। लेकिन गुजरात, पंजाब व महाराष्ट्र के रुई का निर्यात बढ़ाने से ये अब 200 करोड़ हो गया है। कोलकाता, त्रिपुर के बाद अपना शहर देश में तीसरे नंबर पर होजरी के कारोबार में है लेकिन इसे धीरे-धीरे घुन लगने लगा है। इसमें रुई से निर्मित यार्न का 80 से 85 फीसद तक निर्यात काफी हद तक जिम्मेदार है। निर्यात में वृद्धि होने से कच्चे माल का संकट खड़ा हो गया है। इसके साथ ही केमिकल प्रोसेसिंग, रंगों व रसायनों के दाम दोगुने होने का भी असर पड़ा है। नतीजतन प्रदेश के करीब ढाई हजार और शहर के डेढ़ हजार लघु उद्योग गहरे संकट में फंस गए हैं। एक लाख से अधिक कर्मचारियों को भी बेरोजगारी का डर सता रहा है। इस व्यवसाय से जुड़े रिटेलर भी वस्तुओं की दरों में 20 फीसद तक इजाफा होने से बिक्री कम होने की समस्या से जूझ रहे हैं। वहीं बिनाई, धुलाई, रंगाई, कटाई, सिलाई और पैकिंग फैक्ट्रियों पर भी फर्क पड़ रहा है।

इसलिए बढ़ा खतरा

निर्यात से सूत में आई काफी कमी, वाणिज्य कर में 5 फीसद टैक्स घातक, बिजली दरों में इजाफा और कटौती, कारीगरों को देना पड़ता बिन काम रुपया, कारीगरों की ठेकेदारी प्रथा में बढ़ोत्तरी, धीरे-धीरे रेडीमेड वस्तुओं का बढ़ा चलन।

'निर्यात नीति से उद्योग को झटका लगा है। 80 रुपये प्रति किलो का धागा अब 200 में बिक रहा है। होजरी उद्योग के कलस्टर की बात भी बेमानी साबित हो रही है। वहीं कृत्रिम धागा भी घाव पर नमक छिड़क रहा है।'

-मनीराम अग्रवाल, महामंत्री, उप्र होजरी उद्योग व्यापार मंडल

'महंगाई से खरीदारी क्षमता भी घट रही है। सरकार भी उद्योग पर बढ़ते संकट के प्रति उदासीन है। हर संभव उपाय किए जाने की जरूरत है वर्ना होजरी उद्योग की स्थिति और खराब हो जाएगी।'

- मनोज बंका, अध्यक्ष, नार्दन इंडिया होजरी मैन्युफैक्चर्स एसोसिएशन

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए क्लिक करें m.jagran.com परया

कमेंट करें

Web Title:

(Hindi news from Dainik Jagran, newsstate Desk)

'एक हफ्ते में चालू हो दादानगर पुल'दिनभर मशक्कत, शाम को 'आधार' निराधार
यह भी देखें

प्रतिक्रिया दें

English Hindi
Characters remaining


लॉग इन करें

यानिम्न जानकारी पूर्ण करें



Word Verification:* Type the characters you see in the picture below

    स्थानीय

      यह भी देखें
      Close
      रुई के निर्यात से 300 करोड़ का झटका
      रुई-टेंट निर्माण फैक्ट्री में आग
      उद्यमियों ने सीखी निर्यात की बारीकियां