'विज्ञान से बढ़कर है ज्योतिष का ज्ञान'

Publish Date:Mon, 17 Jul 2017 01:00 AM (IST) | Updated Date:Mon, 17 Jul 2017 01:00 AM (IST)
'विज्ञान से बढ़कर है ज्योतिष का ज्ञान''विज्ञान से बढ़कर है ज्योतिष का ज्ञान'
जासं, इलाहाबाद : ज्योतिष को धर्म से जोड़कर देखना उसका अपमान है। ज्योतिष किसी धर्म विशेष की विद्या नही

जासं, इलाहाबाद : ज्योतिष को धर्म से जोड़कर देखना उसका अपमान है। ज्योतिष किसी धर्म विशेष की विद्या नही है, बल्कि संपूर्ण मानव की समस्याओं का निदान है इसमें। जरूरत है इसके वैज्ञानिक स्वरूप को समझने की। भारतीय विद्या भवन के निदेशक डॉ. रामनरेश त्रिपाठी ने यह बातें कही। वह भवंस ज्योतिष विज्ञान संस्थान के ज्योतिष पाठ्यक्रम के सत्रारंभ व ज्योतिष मेला में मुख्य अतिथि बोल रहे थे। कहा कि ज्योतिष का ज्ञान विज्ञान से बढ़कर है। विज्ञान जो शोध कर रहा है ज्योतिष उसे सदियों पहले प्रमाणित कर चुका है। कहा कि युवाओं को ज्योतिष के शास्त्रीय के साथ वैज्ञानिक पक्ष से जोड़ा जाएगा। कहा कि 2019 के अ‌र्द्धकुंभ में ज्योतिष महाकुंभ का आयोजन होगा, जिसमें विश्व के ख्यातिलब्ध ज्योतिष के विद्वान शिरकत करेंगे। आचार्य त्रिवेणी प्रसाद त्रिपाठी ने कहा कि ज्योतिष शास्त्र काल गणना का महत्वपूर्ण अंग है। संपूर्ण पृथ्वी को नौ खंडों में विभाजित किया गया है। भारत पुरुष ग्रहों से संबंध रखता है। इसीलिए यहां ज्ञान का भंडार है। इस दौरान दिसंबर 2016 का परीक्षाफल घोषित हुआ। इसमें मीना सिंह, रीना चटर्जी, जानकी कुशवाहा, अनिल द्विवेदी व पुष्पा सिंह अपने-अपने वर्ग में अव्वल रहे। ज्योतिष मेला में 542 लोगों की समस्याओं का समाधान हस्तरेखा, कुंडली के जरिये किया गया। इस दौरान टीएन त्रिपाठी, ज्योति मालवीय, राजेंद्र नागर, नसीम मौजूद रहे।

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
    Web Title:(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

    कमेंट करें

    यह भी देखें