विश्व गौरैया दिवस

विश्व गौरैया दिवस

घर-आंगन में फुदकने-चहकने वाली गौरैया अब ढूंढे नहीं मिलती। कम होती हरियाली और घरों के आस-पास बने विषाक्त वातावरण ने गौरैया को गायब ही कर दिया है। लगभग एक दशक पहले तक हमारे घर-आंगन, बागीचे, रोशनदान, अटारी पर गौरैया मंडराती थी। कभी गर्मी में गौरैया जब धूल में लोटती थी तो माना जाता था कि बारिश होने वाली है। उसका गायब होना पर्यावरण पर बढ़ते संकट का भी प्रमाण है।

जागरण से खबरें

यह भी देखें