PreviousNext

कुल्लू का रघुनाथ मंदिर

Publish Date:Thu, 25 Oct 2012 03:22 PM (IST) | Updated Date:Thu, 25 Oct 2012 03:22 PM (IST)
कुल्लू का रघुनाथ मंदिर
भारत में दशहरे के विशिष्ट व ऐतिहासिक आयोजनों में कुल्लू का दशहरा सर्वाधिक लोकप्रिय है। इसे अब कुल्लू में हर साल अंतरराष्ट्रीय मेले के तौर पर मनाया जाता है, जो एक सप्ताह चलता है।

भारत में दशहरे के विशिष्ट व ऐतिहासिक आयोजनों में कुल्लू का दशहरा सर्वाधिक लोकप्रिय है। इसे अब कुल्लू में हर साल अंतरराष्ट्रीय मेले के तौर पर मनाया जाता है, जो एक सप्ताह चलता है। इस मेले में कुल्लू-पार्वती घाटी के गांवों के सैकड़ों देवता शिरकत करते हैं, जिनका नेतृत्व रघुनाथजी करते हैं। दरअसल कुल्लू के रघुनाथ मंदिर से ही विजयादशमी के दिन कुल्लू दशहरे के आयोजनों की शुरुआत होती है, जो बाद में कुल्लू के ढालपुर मैदान में चरम पर पहुंचती है। 17वीं सदी में कुल्लू के राजा जगत सिंह ने अयोध्या से मंगाकर भगवान रघुनाथ की मूर्ति सिंहासन पर स्थापित की थी। उसके बाद से रधुनाथ जी कुल्लू घाटी के राजा कहलाए जाने लगे। दशहरे पर उनकी रथ-यात्रा निकलने लगी, जिसमें कुल्लू के सारे देवता शामिल होने लगे। कुल्लू के राजपरिवार के वंशज अब भी रघुनाथ मंदिर में जाकर पूजा करते हैं। ऊपरी कुल्लू में स्थित रघुनाथ मंदिर सैलानियों के लिए भी सबसे लोकप्रिय स्थान है।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

यहां होती है भक्तों की मनोकामना पूरी भालसुमर में होती है शेरावाली की पूजा
अपनी प्रतिक्रिया दें
  • लॉग इन करें
अपनी भाषा चुनें




Characters remaining

Captcha:

+ =


आपकी प्रतिक्रिया
    यह भी देखें

    संबंधित ख़बरें