PreviousNext

कविता: अपने तरीके की लड़ाई

Publish Date:Mon, 20 Mar 2017 04:12 PM (IST) | Updated Date:Mon, 20 Mar 2017 04:15 PM (IST)
कविता: अपने तरीके की लड़ाईकविता: अपने तरीके की लड़ाई
महल-दुमहले होंगे तुम्हारे पर जिस पर टिक सकें पांव इत्ती जमीन मेरी भी है

न सही पूरे 365

कोई एक दिन

या कि उसका

एक छोटा सा हिस्सा

मेरा भी है

सारा आकाश

तुम्हारा सही

पर इसी आकाश की

मामूली ही सही

सिर जितनी छांह

मुझ पर भी है

सारे पहाड़, नदी

वन, बाग, खेत

महल-दुमहले होंगे तुम्हारे

पर जिस पर टिक सकें पांव

इत्ती जमीन मेरी भी है

सारे उजाले

सारी सत्ताएं

सारी कायनात

सारे आमोद-प्रमोद

व्यंजनों भरी परात

होगी तुम्हारे पास

पर श्रम के दो हाथ

एक कटोरी दाल

एक मुट्ठी भात

पत्तों की सही

एक छोटी थाली

चुल्लू भर गिलास मेरा भी है

(चर्चित कवि की अनेक कविताएं पत्र-

पत्रिकाओं में प्रकाशित)

‘प्रतीक्षा’,2-डी-2, पटेल नगर

बीकानेर-334003

नवनीत पांडे

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:poem(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

नहीं चेते तो 10 साल में नहीं दिखेगी गोरैयाइंसानों की तरह चैट करता है मशीनी ‘बॉट’
यह भी देखें