PreviousNext

मोटापे की लड़ाई का उपकरण बैरिएट्रिक सर्जरी

Publish Date:Wed, 30 May 2012 09:01 PM (IST) | Updated Date:Thu, 31 May 2012 01:04 AM (IST)
मोटापे की लड़ाई का उपकरण बैरिएट्रिक सर्जरी

अमृतसर (वि.) : अधिकाश लोगों का मत है कि अधिक वजन के साथ जीवनशैली अच्छी नहीं। हजारों ही लोग हर रोज अपने वजन के लिए संघर्ष करते हैं। विश्वभर में बैरिएट्रिक सर्जरी मोटापे की लड़ाई के खिलाफ एक मुख्य उपकरण है। विश्व भर में बहुत से लोग मोटापे का शिकार हो रहे हैं। बच्चों में मोटापा बड़ी तेजी से बढ़ रहा है और किशोर अवस्था तक वह पूरी तरह से मोटापे की जकड़ में आ चुके होते हैं, जिस कारण कई अन्य रोग जैसे डायबिटीज, ब्लड प्रेशर और कोलेस्ट्रोल का भी शिकार हो जाते हैं। यह जानकारी बुधवार को फोर्टिस एस्का‌र्ट्स अस्पताल के डाक्टर रविन्द्र सिंह मल्होत्रा (लेप्रोस्कोपिक एवं बेरिएट्रिक सर्जन) ने पत्रकारों से बातचीत में दी।

डा. मल्होत्रा ने बताया लेप्रोस्कोपी विधि द्वारा की जाने वाली इस सर्जरी के दौरान रोगी को केवल 3 से 4 दिन तक ही अस्पताल में रहना पड़ता है। इस सर्जरी द्वारा हम डायबिटीज और हाईपरटेंशन को भी क्योर कर सकते हैं। अप्रैल में उन्होंने मुम्बई से आए 37 वर्षीय युवक जिसका वजन 117 किलोग्राम था, की बेरिएट्रिक सर्जरी की और अब उसका वजन 104 किलोग्राम है।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
    Web Title:(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

    कमेंट करें

    स्पेशल बच्चों के दाखिले संबंधी स्कूलों को निर्देशकम्युनिस्ट पार्टी ने 14 उम्मीदवार खड़े किए
    यह भी देखें

    अपनी प्रतिक्रिया दें

    अपनी भाषा चुनें
    English Hindi


    Characters remaining

    लॉग इन करें

    निम्न जानकारी पूर्ण करें

    Name:


    Email:


    Captcha:
    + =


     

      यह भी देखें
      Close