यह भी देखें

लखनऊ में सोमवार को योगी विधानसभा के सेंट्रल हाल में पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर की 91वीं जयंती पर 'राष्ट्रपुरुष चंद्रशेखर, संसद में दो टूक पुस्तक के लोकार्पण के बाद आयोजित समारोह को संबोधित कर रहे थे। कहा, कॉमन सिविल कोड के बारे में चंद्रशेखर की धारणा बहुत स्पष्ट थी और उन्होंने बहुत बेबाकी से कहा था कि जब देश एक है, फौजदारी के कानून एक हैं तो शादी-ब्याह के कानून एक क्यों नहीं हो सकते।