PreviousNext

भागवत गीता जीवन का श्रेष्ठ मार्ग दर्शक

Publish Date:Fri, 03 Feb 2012 07:48 PM (IST) | Updated Date:Fri, 03 Feb 2012 07:48 PM (IST)
भागवत गीता जीवन का श्रेष्ठ मार्ग दर्शक

राउरकेला, जागरण संवाददाता :

महान भागवत गीता मानव का श्रेष्ठ मार्ग दर्शक है। इसमें मानव जीवन के गूढ़ तत्व एवं दर्शन शामिल हैं। बसंती कालोनी में इस्कान भक्तों के सम्मेलन में भक्ति पुरुषोत्तम स्वामी ने अपने प्रवचन में यह बात कही।

बसंती कालोनी स्थित सांस्कृतिक परिषद परिसर में इस्कान भक्तों का हरेकृष्ण सम्मेलन के मौके पर प्रवचन कार्यक्रम हुआ। इसमें भक्त पुरुषोत्तम स्वामी आमंत्रित थे। उन्होंने कहा कि वर्तमान में मानव विकट काल से गुजर रहा है। भगवान श्रीकृष्ण रसामृत ही हमें इस संकट से बचा सकता है। इसके लिए सभी को इस दर्शन से प्रेरणा लेकर काम करने का आह्वान उन्होंने किया। इस अवसर पर कलियुग के कुपरिणाम एवं संकट पर जागरूकता पैदा करने इस्कान भक्तों की ओर से एक नाटक का मंचन किया गया। बसंती शाखा के प्रमुख सुमंगल प्रभु की देखरेख में यह कार्यक्रम आयोजित हुआ। इसमें हरिशंकर देहुरिया, लक्ष्मी महाराणा, सुरजीत महापात्र, अमित साहू, सत्यव्रत जेना, बाबूली मंडल, राजेश, विश्वजीत दास आदि ने अहम भूमिका निभाई। इस हरेकृष्ण सम्मेलन के आरंभ में भक्तों के द्वारा भजन कीर्तन किया गया एवं रीति नीति के अनुसार आरती व नृत्य हुआ। इस कार्यक्रम में बड़ी संख्या में भक्त एवं आध्यात्मिक प्रेमी शामिल हुए।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
    Web Title:(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

    कमेंट करें

    आरएसपी कर्मी की कार चोरीएनजेसीएस पर ट्रेड यूनियनों की संयुक्त बैठक
    यह भी देखें

    संबंधित ख़बरें

    • कानपुर टेस्ट में जीत के बाद बोले विराट कोहली

      ऐतिहासिक कानपुर टेस्ट में 197 रन की बड़ी जीत हासिल करने के बाद टीम इंडिया के टेस्ट कप्तान विराट कोहली ने उड़ी हमले को लेकर अपनी संवेदनाएं व्यक्त की।

    • तो ये है अनिल कपूर की फिटनेस का राज़!

      कई सालों से इंडस्ट्री में बने हुए अनिल कपूर की फिटनेस सभी को कर देती है चकित। लेकिन, कौन-सी चीज़ उन्हें रखती है इतना हेल्दी और फिट? बता रही हैं RJ Ni

    • सत्य का मार्ग

      अहिंसा, नेकी और सार्वभौमिक प्रेम संबंधी भगवान बुद्ध की शिक्षाओं की अनंत प्रासंगिकता है। उन्होंने सभी लोगों से एक सौहार्दपूर्ण समाज के निर्माण के लिए