PreviousNext

आतंक के खिलाफ पाक को मिला अफगानिस्‍तान का साथ

Publish Date:Thu, 18 Dec 2014 01:03 PM (IST) | Updated Date:Thu, 18 Dec 2014 03:45 PM (IST)
आतंक के खिलाफ पाक को मिला अफगानिस्‍तान का साथ
पाकिस्‍तान ने कहा है कि अफगानिस्‍तान और अंतरराष्‍ट्रीय सुरक्षा सहायता बल [आइएसएएफ] ने आश्‍वासन दिया है कि वे सीमावर्ती इलाकों में छिपे आतंकवादियों के खिलाफ कार्रवाई करेंगे। खबर है

इस्लामाबाद। पाकिस्तान ने कहा है कि अफगानिस्तान और अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा सहायता बल [आइएसएएफ] ने आश्वासन दिया है कि वे सीमावर्ती इलाकों में छिपे आतंकवादियों के खिलाफ कार्रवाई करेंगे। खबर है कि पेशावर स्कूल हत्याकांड का मास्टर माइंड इसी इलाके में छुपा है।

पाक सेना प्रमुख जनरल राहील शरीफ बुधवार को बिना किसी पूर्वनियोजित यात्रा के तहत अफगानिस्तान पहुंचे। उनके साथ इंटर सर्विसेज इंटेलिजेंस चीफ लेफ्टिनेंट जनरल रिजवान अख्तर भी वहां पहुंचे। सेना प्रमुख ने अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी और आइएसएएफ के कमांडर जनरल जॉन कैम्पबेल से मुलाकात की।

आर्मी प्रमुख ने बताया कि अफगानिस्तान ने आतंकवादियों के खिलाफ कार्रवाई करने का वादा किया है। पाकिस्तान आर्मी ने एक बयान में कहा कि अफगान राष्ट्रपति ने जनरल राहील शरीफ को विश्वास दिलाया है कि अफगानिस्तान की धरती से पाकिस्तान के खिलाफ किसी प्रकार की आतंकी घटनाओं को अंजाम नहीं दिया जाएगा। इसके साथ ही आइएसएएफ कमांडर ने भी आतंकवाद को खत्म करने के लिए समर्थन देने का वादा किया है।

हालांकि पाकिस्तान आर्मी प्रमुख के आकस्मिक यात्रा पर अफगानिस्तान की ओर से किसी प्रकार की प्रतिक्रिया नहीं आई। बता दें कि पाकिस्तान में मंगलवार को पेशावर में आर्मी स्कूल पर हुआ आतंकी हमला इतिहास में सबसे भीषण आतंकवादी हमला है, जिसकी पूरी दुनिया में निंदा हो रही है। इस घटना में कम से कम 148 लोग मारे गए थे, जिनमें ज्यादातर बच्चे शामिल थे।

पढ़ें - तालिबान ने जारी की पेशावर के नरपिशाचों की तस्वीरें

पढ़ें - पाकिस्तानी सेना के हवाई हमले में 57 आतंकी ढेर

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:Pak gets assurance from Kabul on action against militants(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

बोको हराम के खिलाफ लडऩे से इंकार करने पर 54 सैनिकों को मौत की सजासत्यार्थी व मलाला के सम्मान में अमेरिकी सीनेट में प्रस्ताव
यह भी देखें