PreviousNext

मुख्य सचिव ने शुरू की गोरखपुर आक्सीजन हादसे की जांच

Publish Date:Sun, 13 Aug 2017 09:39 PM (IST) | Updated Date:Sun, 13 Aug 2017 09:57 PM (IST)
मुख्य सचिव ने शुरू की गोरखपुर आक्सीजन हादसे की जांचमुख्य सचिव ने शुरू की गोरखपुर आक्सीजन हादसे की जांच
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर गोरखपुर के बाबा राघव दास मेडिकल कॉलेज में बच्चों की मौत की जांच शुरू हो गई है।

लखनऊ (जेएनएन)। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर गोरखपुर के बाबा राघव दास मेडिकल कॉलेज में बच्चों की मौत की जांच शुरू हो गई है। रविवार को मुख्य सचिव राजीव कुमार गोरखपुर पहुंचे थे। उन्होंने इस मामले से जुड़े आवश्यक दस्तावेज कब्जे में ले लिए। राजीव कुमार ने बताया कि उन्होंने जांच शुरू कर दी है। हफ्ते भर में वह जांच पूरी कर लेंगे। आरोप है कि बच्चों की मौत ऑक्सीजन न मिलने से हुई। मुख्यमंत्री ने शनिवार को इस सिलसिले में मुख्य सचिव की अध्यक्षता में कमेटी गठित की और जांच पूरी कर एक हफ्ते में रिपोर्ट देने के निर्देश दिए थे। इसी कड़ी में राजीव कुमार ने रविवार से ही जांच शुरू कर दी है। 

यह भी पढ़ें: लापरवाही की हदः दो चिट्ठियां खोल रही प्रशासन के दावे की पोल

मुख्य सचिव को मिली डीएम की रिपोर्ट 

मेडिकल कालेज में बच्चों की मौत ऑक्सीजन से हुई। सरकार का तर्क है कि मौत ऑक्सीजन से नहीं हुई। वहीं विपक्ष समेत बच्चों के अभिभावकों का कहना है कि ऑक्सीजन न मिलने से बच्चों की मौत हुई है। इसकी पड़ताल गोरखपुर के डीएम ने भी की है। इसके अलावा अन्य सभी बिन्दुओं पर उन्होंने अपनी तरफ से एक रिपोर्ट बनाई है। यह रिपोर्ट मुख्य सचिव तक पहुंच गई है। पूछे जाने पर मुख्य सचिव राजीव कुमार ने कहा कि रिपोर्ट तो मिली है लेकिन, इसे सोमवार को ही देख पाएंगे। उन्होंने रिपोर्ट के बारे में और कोई जानकारी नहीं दी। गोरखपुर कार्यालय के अनुसार मजिस्टीरियल कमेटी की जांच रिपोर्ट जिलाधिकारी ने चिकित्सा शिक्षा मंत्री आशुतोष टंडन को सौंप दी है। चर्चा है कि रिपोर्ट में लिक्विड आक्सीजन का ब्रेक होना तो बताया गया है लेकिन इसे मौत की वजह नहीं कहा गया है।

यह भी पढ़ें: 48 बच्चों की मौत का भयावह मंजर देख अटकी रहीं सांसें, बहते रहे आंसू

जिलाधिकारी राजीव रौतेला ने अपर आयुक्त प्रशासन संजय सिंह की अध्यक्षता में जांच कमेटी गठित की थी। टीम में अपर जिलाधिकारी नगर, अपर निदेशक स्वास्थ्य डा. पुष्कर आनंद, नगर मजिस्ट्रेट विवेक श्रीवास्तव, मुख्य चिकित्साधिकारी डा. रवीन्द्र कुमार शामिल थे। इस संबंध में पूछे जाने पर जिलाधिकारी ने सिर्फ इतना कहा कि जांच रिपोर्ट भेज दी गई है।

यह भी पढ़ें: मंत्री और सचिव की तीन घंटे बैठक लेकिन मरीजों को मिले छह मिनट

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:Chief Secretary examined Gorakhpur Oxygen accident(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

केजीएमयू में भी चल रही है ऑक्सीजन पाइपलाइन बिछाने की जांचपूर्वांचल में नदियों ने मचाई तबाही, रेललाइन और हाईवे पुल तक डूबे
यह भी देखें