PreviousNext

डोपिंग के आरोप में रूस एथलेटिक्स संघ निलंबित

Publish Date:Sat, 14 Nov 2015 08:09 PM (IST) | Updated Date:Sat, 14 Nov 2015 08:13 PM (IST)
डोपिंग के आरोप में रूस एथलेटिक्स संघ निलंबित
अगले साल होने वाले खेलों के महाकुंभ रियो ओलंपिक से महज नौ महीने पहले रूस को बड़ा झटका लगा है। राज्य प्रायोजित डोपिंग के आरोपों से घिरे रूस एथलेटिक्स संघ (एआरएएफ) को अंतरराष्ट्रीय

पेरिस। अगले साल होने वाले खेलों के महाकुंभ रियो ओलंपिक से महज नौ महीने पहले रूस को बड़ा झटका लगा है। राज्य प्रायोजित डोपिंग के आरोपों से घिरे रूस एथलेटिक्स संघ (एआरएएफ) को अंतरराष्ट्रीय एथलेटिक्स संघ (आइएएएफ) ने अस्थायी रूप से निलंबित कर दिया है। आइएएएफ ने यह कदम विश्व डोपिंग रोधी एजेंसी (वाडा) की हाल में आई रिपोर्ट के आधार पर उठाया है। इस फैसले के बाद रूसी एथलीटों के किसी भी अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में भाग लेने पर रोक लगने के अलावा रूस के हाथों कई आयोजनों की मेजबानी छिन सकती है। रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन हालांकि इस समस्या का जल्द समाधान ढूंढने की बात कह रहे हैं।

- डोपिंग बर्दाश्त नहींः आइएएएफ

फ्रांस की राजधानी पेरिस में शुक्रवार को आइएएएफ के मुखिया सेबेस्टियन को की अध्यक्षता में हुई बैठक में निलंबन का निर्णय लिया गया। सेबेस्टियन ने कहा, 'डोपिंग मामले में एआरएएफ की विफलता पर विस्तार से चर्चा के बाद हमने रूसी संघ को अस्थायी रूप से निलंबित करने का फैसला किया। इस मामले में हमने कठोर कार्रवाई की। यह बहुत ही शर्मनाक है और डोपिंग को किसी भी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है।' सेबेस्टियन ने हालांकि स्वीकार किया कि न केवल रूस बल्कि दुनिया के दूसरे एथलेटिक्स संघ भी डोपिंग पर लगाम लगाने में विफल रहे हैं।

- निलंबन के पक्ष में पड़े 22 मत

बैठक में आइएएएफ परिषद के सदस्य और एआरएएफ के महासचिव मिखाइल बुटोव ने रूस का प्रतिनिधित्व करते हुए अपने देश का बचाव किया, लेकिन उन्हें सफलता नहीं मिली और 22 सदस्यों ने रूस एथलेटिक्स संघ को निलंबित करने के पक्ष में मतदान किया, जबकि निलंबन के खिलाफ केवल एक सदस्य ने वोट डाला।

- रूसी एथलेटिक्स नहीं ले सकेंगे भाग:

आइएएएफ के इस फैसले के बाद न केवल रूसी एथलेटिक्स बल्कि सहायक स्टाफ भी किसी अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं का हिस्सा नहीं बन सकेंगे। अब रूस के सामने सबसे बड़ी चुनौती 2016 में होने वाले रियो ओलंपिक को लेकर है, जिसके आयोजन में नौ महीने से भी कम समय शेष हैं।

- छिन सकती है आयोजनों की मेजबानी:

रूस को अगले साल कई प्रतियोगिताओं की मेजबानी करनी है। व‌र्ल्ड रेस वॉकिंग कप, व‌र्ल्ड जूनियर चैंपियनशिप इनमें प्रमुख हैं। इसके अलावा 2018 में रूस को फुटबॉल विश्व की मेजबानी भी करनी है, जिस पर अब संकट के बादल घिर सकते हैं।

- सदस्यता के लिए लगाई कड़ी शर्तें:

रूस को आइएएएफ में अपनी सदस्यता बरकरार रखने के लिए कड़ी शर्तो का पालन करना होगा। आइएएएफ ने कहा कि रूस के नए एथलेटिक्स संघ को मानदंडों का पालन करना होगा। अगले कुछ दिनों में रून एंडरसन की अध्यक्ष में एक निरीक्षण दल का गठन किया जाएगा जिसमें आइएएएफ की तीन सदस्यों के अलावा वाडा के सदस्य भी इस दल का हिस्सा होंगे।

- जल्द हल होगी समस्या: पुतिन

चौतरफा आलोचनाओं बीच रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने कहा कि अगले कुछ महीनों में इस समस्या का समाधान का ढूंढ निकाला जाएगा। उन्होंने कहा कि डोपिंग केवल रूस की नहीं बल्कि पूरे विश्व की समस्या है।

- बचाव में उतरे बुबका और येलेना

रूस की स्टार पोल वॉल्टर येलेना इसिनबायेवा और यूक्रेन के महान पोल वॉल्टर सर्गेई बुबका ने रूस का बचाव किया है। उन्होंने कहा कि सभी रूसी खिलाडि़यों को प्रतिबंधित करना सरासर गलत है। येलेना और बुबका ने कहा कि आइएएएफ के इस फैसले से सभी रूसी खिलाड़ी प्रभावित होंगे और अंतरराष्ट्रीय संस्था को इससे बचना चाहिए था।

- पाउंड की रिपोर्ट पर मची खलबलीः

डोपिंग मामलों की जांच के लिए वाडा के पूर्व अध्यक्ष डिक पाउंड की अध्यक्षता में तीन सदस्यीय एक स्वतंत्र आयोग का गठन किया गया था। अपनी रिपोर्ट में पाउंड ने रूसी अधिकारियों की डोपिंग में मिलीभगत की ओर भी इशारा किया था। रिपोर्ट में पांच रूसी खिलाडि़यों और पांच कोचों पर आजीवन प्रतिबंध लगाने के अलावा रूस एथलेटिक्स फेडरेशन को भी निलंबित करने की सिफारिश की गई थी। डोपिंग का यह मामला खिलाडि़यों तक सीमित नहीं है बल्कि आइएएएफ के पूर्व अध्यक्ष लेमिन डिऑक भी इस मामले में घिरे हुए हैं। उन पर डोपिंग के इस मामले को दबाने के बदले घूस लेने का आरोप है।

खेल जगत की अन्य खबरों के लिए यहां क्लिक करें

क्रिकेट से जुड़ी खबरों के लिए यहां क्लिक करें

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:Russian athletic Federation suspended in Doping charges(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

पेरिस हमलों के बीच अंत तक खेला गया फ्रांस-जर्मनी फुटबॉल मैच29 वर्ष की हुईं भारतीय टेनिस स्टार सानिया मिर्जा
यह भी देखें