PreviousNext

प्रद्युम्न हत्याकांड में जानिए SIT की जांच रिपोर्ट का सच, परिजनों का शक सही

Publish Date:Wed, 13 Sep 2017 04:29 AM (IST) | Updated Date:Wed, 13 Sep 2017 09:33 PM (IST)
प्रद्युम्न हत्याकांड में जानिए SIT की जांच रिपोर्ट का सच, परिजनों का शक सहीप्रद्युम्न हत्याकांड में जानिए SIT की जांच रिपोर्ट का सच, परिजनों का शक सही
स्कूल में सुबूतों के साथ छेड़छाड़ की गई है और प्रद्युम्न की हत्या में किसी एक अन्य शख्स की भी भूमिका संभावित है।

गुरुग्राम [ जेएनएन ]। रेयान इंटरनेशनल स्कूल के छात्र प्रद्युम्न की हत्या मामले में नया मोड़ आया है। इस घटना की जांच के लिए गठित एसआइटी ने माना है कि स्कूल में सुबूतों के साथ छेड़छाड़ की गई है और प्रद्युम्न की हत्या में किसी एक अन्य शख्स की भी भूमिका संभावित है।

इस रिपोर्ट में कहा गया है कि अन्य हत्यारा संभवत: वारदात को अंजाम देने के बाद शौचालय की टूटी खिड़की के रास्ते से भाग गया। उधर, पोस्टमार्टम की रिपोर्ट में इस बात की पुष्टि हो गई है कि प्रद्युम्न का यौन शोषण नहीं हुआ था।

प्रद्युम्न हत्याकांड:

-एसआइटी ने माना, सुबूतों से छेड़छाड़ भी की गई

-पोस्टमार्टम रिपोर्ट में यौन शोषण की पुष्टि नहीं

-निलंबित प्रिंसिपल से पूछताछ, नहीं हुई गिरफ्तारी

-मुंबई में रेयान स्कूल के स्टाफ से हरियाणा पुलिस ने की पूछताछ की

 दैनिक जागरण ने भी खबर लिखी थी कि प्रद्युम्न के साथ यौन शोषण नहीं हुआ है। इस बीच स्कूल की निलंबित प्रिसिंपल नीरजा बत्रा से पुलिस ने मंगलवार को दो घंटे से ज्यादा समय तक पूछताछ की है। नीरजा ने पुलिस को बताया कि वह तमाम मुद्दों पर मेल द्वारा, फोन पर निदेशक को कहती रही लेकिन प्रबंधन ने कभी उनकी बातें नहीं मानी। उन्होंने साक्ष्य भी पेश किये। पुलिस का कहना है कि नीरजा को गिरफ्तार नहीं किया गया है और वह जांच में सहयोग कर रही हैं। जरूरत पड़ी तो उनसे पूछताछ की जाएगी।

 गौरतलब है कि नीरजा को सोमवार को पुलिस ने नोटिस देकर बुलाया था, लेकिन तबीयत खराब होने के चलते वह पूछताछ के लिए नहीं गईं थी। प्रद्युम्न की हत्या के बाद नीरजा को स्कूल प्रबंधन ने निलंबित कर दिया था।

पिंटो परिवार से पूछताछ नहीं

उधर मंगलवार को मुंबई में रेयान स्कूल के स्टाफ से हरियाणा पुलिस ने की पूछताछ की। पुलिस कांदीवाली के रेयान इंटरनेशनल स्कूल पहुंची थी। पूछताछ शाम 7.30 बजे तक चली। इस दौरान स्थानीय पुलिस हरियाणा पुलिस के साथ नहीं थी। हालांकि रेयान स्कूल का संचालन करने वाले पिंटो परिवार से किसी तरह की पूछताछ नहीं की गई।

नेताओं पर बरसे प्रद्युम्न के पिता

प्रद्युम्न के घर पर मंगलवार को बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी और राज्यसभा के सदस्य शरद यादव सांत्वना देने पहुंचे। सांत्वना देने हरियाणा प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष अशोक तंवर भी पहुंचे। प्रद्युम्न के पिता वरुण चंद ठाकुर ने शरद यादव और जीतनराम मांझी को खूब सुनाया। ठाकुर का कहना था कि स्कूलों में बच्चा सुरक्षित नहीं है, स्कूल वाले अपनी मनमानी कर रहे हैं तो इसके पीछे आप (राजनेता) जैसे लोग हैं जो किसी न किसी स्कूल के साथ जुड़े रहते हैं और प्रशासन कोई कार्रवाई नहीं करता। आप लोगों को इस पर ध्यान देना होगा क्योंकि आज मेरा बच्चा गया है, कल किसी और का बच्चा खत्म हो जाएगा।

बच्चे के साथ गलत हरकत करने का प्रयास किया गया होगा, मगर उसके साथ कुछ गलत नहीं हुआ। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में किसी तरह के यौन शोषण की बात नहीं है-अशोक बक्शी, डीसीपी, एसआइटी प्रमुख।

हत्या अभियुक्त को भेजा जेल, विशेष अदालत में चलेगा मामला

हत्याकांड में पकड़े गए स्कूल बस के हेल्पर अशोक को तीन दिन के रिमांड के बाद मंगलवार दोपहर पुलिस ने सोहना की अदालत में इलाका मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया। अदालत ने उसे 18 सितंबर तक के लिए न्यायिक हिरासत में दिया। अभियुक्त के खिलाफ पुलिस शनिवार को चार्जशीट पेश करेगी।

उसके खिलाफ पर्याप्त सुबूत हैं। शनिवार तक फोरेंसिक जांच की रिपोर्ट भी आ जाने की संभावना है। अभियुक्त के खिलाफ विशेष अदालत में सुनवाई होगी। वहीं जैसे ही अभियुक्त अशोक को पुलिस अदालत में पेशी पर ले जाने लगी तो लोगों ने उससे मारपीट करने का प्रयास किया।

अशोक को भोंडसी जेल में बनाई गई विशेष बैरक में रखा गया है। जेल प्रशासन को आशंका है कि जेल में कैदी भी उसे पीट सकते हैं। वहीं अशोक आत्मघाती कदम भी उठा सकता है। ऐसे में उसे बैरक में ही खाना दिया जाएगा।

यह भी पढें: प्रद्युम्न हत्याकांड के विरुद्ध कैंडल मार्च

 

मोबाइल पर भी अपनी पसंदीदा खबरें और मैच के Live स्कोर पाने के लिए जाएं m.jagran.com पर
Web Title:ncr There was also another in murder of Pradyuman no evidence of sexual intercourse(Hindi news from Dainik Jagran, newsnational Desk)

कमेंट करें

डेपुटेशन पर आए अफसरों की अवधि बढ़ाने का विरोधप्रद्युम्न हत्‍याकांड: पिता के यक्ष सवाल, स्कूलों की मनमानी रोकने में सिस्टम फेल
यह भी देखें